Breaking :
||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार में 23 फ़रवरी को लगेगा रोजगार मेला, विभिन्न पदों पर होगी बंम्पर भर्ती||अब सात मार्च तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन||पलामू में 16 वर्षीय किशोर का मिला शव, हत्या की आशंका, सड़क जाम
Saturday, February 24, 2024
पलामू प्रमंडलबालूमाथलातेहार

लातेहार: बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की ANM की मनमानी के खिलाफ हो करवाई : जिप उपाध्यक्ष

लातेहार : जिला परिषद उपाध्यक्ष अनीता देवी ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बालूमाथ में एएनएम की मनमानी पर प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी सुरेश राम व सिविल सर्जन दिनेश कुमार को कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जिला परिषद उपाध्यक्ष ने कहा कि बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में एएनएम की मनमानी के चलते टीकाकरण कार्ड बनवाने में पैसे लेने, आवास पर प्रसव कराने, नियमित टीकाकरण नहीं करने की लगातार शिकायतें मिल रही हैं।

शिकायत यह भी मिल रही है कि ओपीडी में ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर द्वारा ओपीडी छोड़कर निजी क्लिनिक में मरीजों को देखा जा रहा है जो कि नियमानुसार नहीं है। ऐसी शिकायतें लगातार आ रही थीं।

इस संबंध में उपाध्यक्ष के द्वारा प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी सुरेश राम एवं सिविल सर्जन लातेहार से बातचीत की गई और संबंधित कर्मियों के खिलाफ आवश्यक कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया l सिविल सर्जन के द्वारा आश्वासन दिया गया कि 1 सप्ताह के अंदर इस मामले का पटाक्षेप कर दिया जाएगा और साथ ही उन्होंने यह भी आश्वासन दिया कि दोबारा ऐसी शिकायतें नहीं आएंगी

इस संबंध में उपाध्यक्ष ने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी सुरेश राम एवं सिविल सर्जन लातेहार से वार्ता कर संबंधित कर्मियों के विरुद्ध आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिये। सिविल सर्जन ने आश्वासन दिया कि एक सप्ताह के भीतर मामले का पटाक्षेप कर दिया जायेगा। साथ ही उन्होंने भरोसा दिलाया कि ऐसी शिकायतें दोबारा नहीं आयेंगी।