Breaking :
||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर
Sunday, February 25, 2024
पलामू प्रमंडलबालूमाथलातेहार

मोबाइल बलास्ट में गयी युवक की जान, गांव में शोक की लहर

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : महाराष्ट्र के पुणे में मोबाइल ब्लास्ट से बालूमाथ के एक युवक की जान चली गयी। मृतक का शव गुरुवार दोपहर ओकया गांव पहुंचा। शव के पहुंचते ही गांव में मातम छा गया। देखते ही देखते सैकड़ों लोग मृतक के घर पहुंच गए।

मृतक गांव निवासी छोटन साव का पुत्र राजकुमार साब 25 वर्ष का है, जो पुणे में पोकलेन मशीन चलाने का काम करता था। 23 अगस्त की शाम मोबाइल चार्ज करते समय उसका मोबाइल फट गया, जिसे गंभीर स्थिति में स्थानीय निजी क्लिक ले जाया गया। जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मृतक राजकुमार साव, छोटन साव का दूसरा पुत्र था। जिनकी शादी इसी साल होनी थी। लेकिन जब छोटे बेटे की लाश घर पहुंची तो पूरे गांव में मातम छा गया। जब पिता ने एक जवान बेटे को कंधा दिया तो पूरा गांव रो पड़ा।

इधर, घटना की सूचना पर बालूमाथ भाजपा मंडल अध्यक्ष लक्ष्मण कुशवाहा मृतक के घर पहुंचे और उन्हें सांत्वना देते हुए आपदा की इस घड़ी में संयम से काम लेने का आह्वान किया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मौके पर प्रमोद रविंदर, बंधन, संजय, विनय, नंदकिशोर, आदित्य, अरविंद, देवेंद्र, गोलू, आदित्य, प्रेम, जितेंद्र, भुनेश्वर, विशेश्वर, जतन सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।