Breaking :
||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद

लातेहार, पलामू व गढ़वा के 180 युवकों से नौकरी के नाम पर 3 करोड़ की ठगी

पलामू : पलामू, लातेहार व गढ़वा के करीब 180 युवकों से रोजगार के नाम पर 3 करोड़ रुपए ठगे गए। जन शिक्षण संस्थान की इकाई जेएसयू इंडिया एजुकेशन ऑफ सोशल सर्विसेज नाम की संस्था के संचालकों पर धोखाधड़ी का आरोप लगाया गया है। धोखाधड़ी के बाद संस्थान के कर्ता धर्ता फरार हैं।

पलामू के चैनपुर थाना क्षेत्र के बंदुआ निवासी अमित बैठा, गढ़वा के खजुरिया निवासी सुरेंद्र कुमार रवि, लातेहार के बरवाडीह के रंजन कुमार रवि ने मेदिनीनगर नगर थाने में न्याय की गुहार लगाई है। थाना प्रभारी ने बताया कि जांच की जा रही है।

पलामू की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

शिकायतकर्ताओं ने पुलिस को बताया कि जन शिक्षण संस्थान की जेएसयू इंडिया एजुकेशन ऑफ सोशल सर्विसेज यूनिट के प्रधान जिला विकास अधिकारी, यूपी के चंदौली निवासी सत्येंद्र कुमार त्रिपाठी, कार्यालय सहायक रमेश पटेल और सुभाष कुमार सिंह ने 2021 में बैरिया चौक के पास कार्यालय खोला। इसके बाद रोजगार देने के नाम पर पैम्फलेट के जरिए विज्ञापन दिया गया। इस विज्ञापन के आधार पर 180 बेरोजगार कार्यालय पहुंचे।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

वहीं सत्येंद्र त्रिपाठी ने बताया कि 80 हजार से साढ़े तीन लाख देने के बाद विभिन्न पदों पर नियुक्ति की जाएगी. पैसे की कमी बताए जाने पर सभी को एपीओ के पद पर नियुक्त कर क्षेत्र में चल रहे केंद्र से कमीशन पर पैसा लाने के लिए नियुक्त किया गया. यह भी कहा गया कि यदि क्षेत्र में 180 केंद्र खोले जाते हैं, तो सर्वेक्षण अधिकारी के रूप में पदोन्नति दी जाएगी. क्वालीफाई करने के लिए 2,000 रुपये के 25 केंद्र खोलने का काम दिया गया था. पीड़ितों के अनुसार, उन्होंने रुपये जमा किए। 17 जून को जब वह कार्यालय पहुंचे तो वहां ताला लटका मिला।

संगठन के अधिकारियों व कर्मचारियों को फोन करने की कोशिश की गई तो मोबाइल स्विच ऑफ था। उसके बाद सभी को पता चला कि उसके साथ धोखा हुआ है। इस बीच, सत्येंद्र कुमार त्रिपाठी, रमेश पटेल और सुभाष कुमार सिंह का पता लगाने के प्रयास किए गए लेकिन सफलता नहीं मिली।