Breaking :
||झारखंड में सात IAS अफसरों का टांस्फर-पोस्टिंग, रमेश घोलप बने चतरा डीसी||गढ़वा जाने के क्रम में लातेहार पहुंचे सीएम चम्पाई सोरेन, कहा- बैद्यनाथ राम को मंत्री बनाने पर फैसला जल्द||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार||लोससभा चुनाव: भाजपा की 195 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, देखें पूरी लिस्ट||सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा
Sunday, March 3, 2024
देश-विदेश

श्रीलंका हुआ दिवालिया घोषित, अब नहीं चुका पायेगा बचा हुआ क़र्ज़

श्रीलंका बहुत बड़े आर्थिक संकट से गुजर रहा है। इसी बीच श्रीलंका ने मंगलवार को खुद को दिवालिया घोषित कर दिया है। श्रीलंका ने घोषणा की है कि वह अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष का बकाया 51 अरब डॉलर के विदेशी कर्ज को नहीं चुका पाएगा।

पर्यटन के ठप होने से कर्ज में डूबे

श्रीलंका की अर्थव्यवस्था में पर्यटन क्षेत्र की बड़ी भूमिका है, लेकिन कोरोना के प्रभाव से यह ठप हो गया है। पर्यटन देश के लिए विदेशी मुद्रा का तीसरा सबसे बड़ा स्रोत है। इसके कमजोर होने से देश का विदेशी मुद्रा भंडार लगभग खाली हो गया है।

लगभग 5 लाख श्रीलंकाई सीधे तौर पर पर्यटन पर निर्भर हैं, जबकि 20 लाख अप्रत्यक्ष रूप से इससे जुड़े हैं। श्रीलंका के सकल घरेलू उत्पाद में पर्यटन का योगदान 10% से अधिक है। श्रीलंका को सालाना करीब 5 अरब डॉलर (करीब 37 हजार करोड़ रुपये) की विदेशी मुद्रा पर्यटन से मिलती है।

इसे भी पढ़ें :- देवघर रोपवे हादसा : सभी फंसे हुए लोगों को निकाला गया, 3 की हुई मौत

बढ़ते कर्ज ने डूबायी लुटिया

श्रीलंका की आज की बुरी आर्थिक स्थिति का सबसे महत्वपूर्ण कारणों में से एक है – इसका तेजी से बढ़ता विदेशी कर्ज। अभी से एक साल पहले श्रीलंका पर कुल 3500 करोड़ डॉलर का कर्ज था, जो सिर्फ एक साल में बढ़कर 5100 करोड़ डॉलर हो गया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें