Breaking :
||झारखंड कैबिनेट का फैसला, सरकार करायेगी जातिगत गणना, विधायकों का वेतन भत्ता बढ़ा, रिटायर्ड कर्मचारियों को भी मिलेगी प्रमोशन||झारखंड को नशामुक्त राज्य बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध, हर किसी की सहभागिता जरूरी : मुख्यमंत्री||वन भूमि से कब्जा हटाने गयी टीम पर ग्रामीणों का हमला, पत्थरबाजी में वन क्षेत्र पदाधिकारी समेत एक दर्जन घायल||झारखंड में इस तारीख को मानसून की एंट्री, बारिश और वज्रपात का अलर्ट||लातेहार: दो बाइकों की टक्कर में मामा-भांजा समेत चार घायल समेत बालूमाथ की दो खबरें||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, जांच में जुटी पुलिस||झारखंड कैबिनेट की बैठक 19 जून को, लिये जायेंगे कई अहम फैसले||रजरप्पा को विश्वस्तरीय धार्मिक पर्यटन स्थल के रूप में किया जाये विकसित, कार्ययोजना करें तैयार : मुख्यमंत्री||झारखंड में IPS अधिकारियों का ट्रांसफर-पोस्टिंग||पलामू में प्रतिबंधित मांस का टुकड़ा फेंके जाने से तनाव, इलाका पुलिस छावनी में तब्दील
Wednesday, June 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरदेश-विदेश

पाटियाला मस्जिद विवाद : सिख सराय पर जबरन कब्जा कर मस्जिद बनाने का आरोप

पाटियाला मस्जिद विवाद: उत्तर प्रदेश के बनारस में मस्जिद विवाद के बाद अब पंजाब में भी मस्जिद विवाद शुरू हो गया है। मामला पटियाला के राजपुरा के गुजरांवाला मोहल्ला में बने एक गुम्बद ढाँचे से जुड़ा है। यहां एक सिख सराय को कथित तौर पर मस्जिद में बदलने का विवाद शुरू हो गया है।

क्या है मामला

जानकारी के अनुसार सिख और हिंदू समुदाय के सदस्यों ने मुस्लिम समुदाय पर जबरन कब्जा करने और ढांचे को मस्जिद में बदलने का आरोप लगाया है।

स्थानीय लोगों का कहना है –

“2017 तक दो सिख परिवार संरचना में रह रहे थे। उसे कथित तौर पर इसे खाली करने के लिए मजबूर किया गया और धमकी दी गई। उसके बाद मुस्लिम समुदाय के लोगों ने इसे मस्जिद का रूप देना शुरू कर दिया। जब एक गुंबद बनाया गया और हरे रंग से रंगा गया तो लोग हैरान रह गए।

लोगों का आरोप है कि ढांचे से सिख धर्म के प्रतीकों को भी हटा दिया गया। गुजरांवाला मोहल्ले के हिंदू पक्ष का कहना है कि पहले यहां हिंदू और सिख समाज के लोग सेवा करते थे। लेकिन कुछ समय बाद बिना किसी सहमति के उस सराय का स्वरूप बदल दिया गया ।

क्या कह रहा है मुस्लिम समुदाय

मुस्लिम समुदाय ने इन आरोपों का खंडन किया है। इनका कहना है कि यह मस्जिद आजादी से पहले की है और हाल ही में इसका पुनर्निर्माण किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक, जांच से पता चला है कि वक्फ बोर्ड ने 2016 में इस ढांचे पर दावा दायर किया था।

इस बीच पुलिस ने सुरक्षा को देखते हुए धार्मिक स्थल के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी है। साथ ही, दोनों पक्षों को अपने दावों को साबित करने के लिए आवश्यक दस्तावेज जमा करने के लिए कहा गया है।

राजपुरा के एसडीएम हिमांशु गुप्ता ने जानकारी देते हुए कहा –

‘मैंने दोनों पक्षों को सुना है। सिख और हिंदू दावा करते हैं कि संरचना मूल रूप से एक सराय थी, लेकिन मुस्लिम समुदाय का दावा है कि यह एक मस्जिद थी। दस्तावेज जमा करने के लिए दो दिन का समय दिया गया है।

पाटियाला मस्जिद विवाद