Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

पाकिस्तान की नेशनल असेंबली भंग, 90 दिन में होंगे चुनाव

पाकिस्तान की नेशनल असेंबली ने रविवार को इमरान खान सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग होनी थी. नेशनल असेंबली में जिस तरह के समीकरण बने थे उसके हिसाब से प्रधानमंत्री इमरान खान की कुर्सी जानी तय तय लग रही थी. नेशनल असेंबली की कार्रवाई दोपहर में शुरू हुई.

पाकिस्तान की नेशनल असेंबली के डिप्टी स्पीकर कासिम खान सूरी ने रविवार को प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को संविधान के अनुच्छेद पांच के खिलाफ बताते हुए खारिज कर दिया. उन्होंने विदेशी साजिश का आरोप लगाकर इसे खारिज किया है. डिप्टी स्पीकर ने नेशनल असेंबली की कार्रवाई 25 अप्रैल तक स्थगित कर दी.

इसे भी पढ़ें :- नक्सलियों की अब खैर नहीं ! सैटेलाइट ट्रैकर का होगा इस्तेमाल, बड़े ऑपरेशन की तैयारी

वहीं अविश्वास प्रस्ताव के खारिज होने से नाराज विपक्ष ने सदन पर कब्जा कर लिया है. विपक्ष ने अयाज सादिक को स्पीकर चुन कर अलग से अपनी कार्यवाही शुरू कर दी है.

विपक्ष का दावा उसके पास 177 सदस्यों समर्थन

वहीं विपक्ष के सदस्य जब आज जब सदन में पहुंचे तो वे अविश्वास प्रस्ताव को लेकर आश्वस्त दिखाई दिए, लेकिन प्रस्ताव खारिज होने के बाद उन्होंने फैसले का विरोध किया. विपक्ष को इमरान खान को सरकार से बाहर करने के लिए निचले सदन में 342 में से 172 सदस्यों के समर्थन की ज़रूरत थी जबकि उन्होंने दावा किया है कि उनके पास 177 सदस्यों को समर्थन है.

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें