Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Friday, April 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरदेश-विदेश

Fake Currency 2022: सावधान! बाजार में दोगुने हुए 500 रुपये के नकली नोट

नई दिल्ली/Fake Currency 2022: देश में नकली नोट तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। रिजर्व बैंक (RBI) की तरफ से मिले आंकड़ों के मुताबिक 2021-22 में नकली नोटों की संख्या बहुत अधिक बढ़ गई है। अगर बात 500 रुपये के नोटों की करें तो 2020-21 में 500 के फर्जी नोटों की संख्या 101.9 फीसदी बढ़ गई। वहीं अगर बात 2000 के नोटों की करें तो 2020-21 में 2000 के फर्जी नोटों की संख्या 54.16 फीसदी बढ़ी है।

31 मार्च 2022 तक सर्कुलेशन में 500 और 2000 रुपये के बैंक नोटों की हिस्सेदारी कुल वैल्यू की 87.1 फीसदी थी। 31 मार्च 2021 तक यह आंकड़ा 85.7 फीसदी था। 31 मार्च 2022 तक 500 रुपये के नोटों की हिस्सेदारी सबसे अधिक थी, जो 34.9 फीसदी थी। इसके बाद नंबर आता है 10 रुपये के बैंक नोट का, जो कुल नोटों का 21.3 फीसदी था।

100 और 50 रुपये के नकली नोट हुए कम

अगर पिछले साल से तुलना करें तो 10, 20, 200, 500 और 2000 रुपये के नकली नोट क्रमशः 16.4%, 16.5%, 11.7%, 101.9% और 54.6% बढ़े हैं। वहीं दूसरी ओर 50 रुपये के नकली नोट 28.7 फीसदी कम हुए हैं और 100 रुपये के नोट करीब 16.7 फीसदी घटे हैं।

बॉलीवुड और मनोरंजन की ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

2000 के नोट हुए कम

दो हजार रुपये के बैंक नोट (Rs. 2000 Note) की संख्या में पिछले कुछ साल से गिरावट का सिलसिला जारी है। इस साल मार्च अंत तक चलन वाले कुल नोट में इनकी हिस्सेदारी घटकर 214 करोड़ या 1.6 प्रतिशत रह गई। आरबीआई की वार्षिक रिपोर्ट में यह कहा गया है। इस साल मार्च तक सभी मूल्यवर्ग के नोटों की कुल संख्या 13,053 करोड़ थी। इससे एक साल पहले इसी अवधि में यह आंकड़ा 12,437 करोड़ था।

देश विदेश की ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक मार्च 2020 के अंत में चलन में शामिल 2000 रुपये के मूल्यवर्ग वाले नोटों की संख्या 274 करोड़ थी। यह आंकड़ा चलन में कुल करेंसी नोटों की संख्या का 2.4 प्रतिशत था। इसके बाद मार्च 2021 तक चलन में शामिल 2000 के नोटों की संख्या घटकर 245 करोड़ या दो प्रतिशत रह गई। पिछले वित्त वर्ष के अंत में यह आंकड़ा 214 करोड़ या 1.6 प्रतिशत तक रह गया।

advt

Fake Currency 2022