Breaking :
||लातेहार: अब मनिका के डुमरी में दिखा आदमखोर तेंदुआ, गांव में मचा कोहराम, घर में दुबके लोग||लातेहार: किडजी प्री स्कूल में “विद्यारंभ संस्कार” का आयोजन, अभिभावक आमंत्रित||रांची: 10 लाख का इनामी PLFI सब जोनल कमांडर तिलकेश्वर गोप गिरफ्तार||राष्ट्रपति गणतंत्र दिवस पर झारखंड पुलिस के 22 अधिकारियों और कर्मचारियों को करेंगे सम्मानित||आईईडी ब्लास्ट में फिर एक जवान घायल, लाया गया रांची||लातेहार जिले के लिए गौरव भरा पल…राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर राज्यपाल ने डीसी को किया सम्मानित||पलामू में अंतरराज्यीय गिरोह के नौ अपराधी गिरफ्तार, दो करोड़ की रंगदारी मांगने सहित आधा दर्जन मामलों का खुलासा||25 लाख के इनामी माओवादी नवीन यादव ने किया आत्मसमर्पण, 100 से अधिक बड़े नक्सली हमलों में रहा है शामिल||मतदाता सूची सुधार एवं आधार प्रमाणीकरण कार्य में लातेहार जिला झारखंड में अव्वल, डीसी होंगे सम्मानित||पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया PLFI का एरिया कमांडर, हथियार बरामद

Fake Currency 2022: सावधान! बाजार में दोगुने हुए 500 रुपये के नकली नोट

नई दिल्ली/Fake Currency 2022: देश में नकली नोट तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। रिजर्व बैंक (RBI) की तरफ से मिले आंकड़ों के मुताबिक 2021-22 में नकली नोटों की संख्या बहुत अधिक बढ़ गई है। अगर बात 500 रुपये के नोटों की करें तो 2020-21 में 500 के फर्जी नोटों की संख्या 101.9 फीसदी बढ़ गई। वहीं अगर बात 2000 के नोटों की करें तो 2020-21 में 2000 के फर्जी नोटों की संख्या 54.16 फीसदी बढ़ी है।

31 मार्च 2022 तक सर्कुलेशन में 500 और 2000 रुपये के बैंक नोटों की हिस्सेदारी कुल वैल्यू की 87.1 फीसदी थी। 31 मार्च 2021 तक यह आंकड़ा 85.7 फीसदी था। 31 मार्च 2022 तक 500 रुपये के नोटों की हिस्सेदारी सबसे अधिक थी, जो 34.9 फीसदी थी। इसके बाद नंबर आता है 10 रुपये के बैंक नोट का, जो कुल नोटों का 21.3 फीसदी था।

100 और 50 रुपये के नकली नोट हुए कम

अगर पिछले साल से तुलना करें तो 10, 20, 200, 500 और 2000 रुपये के नकली नोट क्रमशः 16.4%, 16.5%, 11.7%, 101.9% और 54.6% बढ़े हैं। वहीं दूसरी ओर 50 रुपये के नकली नोट 28.7 फीसदी कम हुए हैं और 100 रुपये के नोट करीब 16.7 फीसदी घटे हैं।

बॉलीवुड और मनोरंजन की ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

2000 के नोट हुए कम

दो हजार रुपये के बैंक नोट (Rs. 2000 Note) की संख्या में पिछले कुछ साल से गिरावट का सिलसिला जारी है। इस साल मार्च अंत तक चलन वाले कुल नोट में इनकी हिस्सेदारी घटकर 214 करोड़ या 1.6 प्रतिशत रह गई। आरबीआई की वार्षिक रिपोर्ट में यह कहा गया है। इस साल मार्च तक सभी मूल्यवर्ग के नोटों की कुल संख्या 13,053 करोड़ थी। इससे एक साल पहले इसी अवधि में यह आंकड़ा 12,437 करोड़ था।

देश विदेश की ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक मार्च 2020 के अंत में चलन में शामिल 2000 रुपये के मूल्यवर्ग वाले नोटों की संख्या 274 करोड़ थी। यह आंकड़ा चलन में कुल करेंसी नोटों की संख्या का 2.4 प्रतिशत था। इसके बाद मार्च 2021 तक चलन में शामिल 2000 के नोटों की संख्या घटकर 245 करोड़ या दो प्रतिशत रह गई। पिछले वित्त वर्ष के अंत में यह आंकड़ा 214 करोड़ या 1.6 प्रतिशत तक रह गया।

advt

Fake Currency 2022