Breaking :
||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव

BREAKING: उड़ीसा में नक्सली हमला, बिहार के एक जवान समेत तीन जवान शहीद

छत्तीसगढ़-ओडिशा सीमा पर मंगलवार को सुरक्षाबलों की नक्सलियों से मुठभेड़ हुई। मुठभेड़ में सीआरपीएफ के 3 जवान शहीद हो गए। दरअसल सीआरपीएफ की आरओपी ड्यूटी पर निकली थी। तभी नक्सलियों ने उनपर हमला कर दिया। जवानों ने भी नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब दिया।

जानकारी मिली है कि नक्सलियों को पहले से सूचना थी कि जवान यहां आने वाले हैं। इसलिए उन्होंने घात लगाकर जवानों को फंसाया और फिर फायरिंग शुरू कर दी।

जानकारी के अनुसार छत्तीसगढ़ के गरियाबंद क्षेत्र से सटे ओडिशा के नुवापाड़ा जिले में सीआरपीएफ 19 बटालियन के जवान रोड ओपनिंग ड्यूटी पर निकले थे। वह अभी भैंसादानी थाना क्षेत्र के बड़ापारा के जंगल के पास पहुंचा ही था कि अचानक नक्सलियों ने जंगल से फायरिंग शुरू कर दी। इस फायरिंग में एएसआई-शिशुपाल सिंह, एएसआई-शिवलाल और कांस्टेबल धर्मेंद्र कुमार सिंह शहीद हो गए। शिशुपाल सिंह उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के रहने वाले थे। शिवलाल महेंद्रगढ़ और धर्मेंद्र सिंह रोहतास के रहने वाले थे।

बॉलीवुड और मनोरंजन की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

फायरिंग की आवाज सुनकर जवानों ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया। बताया जा रहा है कि मौके पर अभी भी 100 से ज्यादा नक्सली मौजूद हैं। फिलहाल सर्च ऑपरेशन तेज कर दिया गया है। साथी जवानों ने किसी तरह वहां से शहीद जवानों के शव निकाले। जवानों के शवों को कैंप भेजा जा रहा है। नक्सलियों को क्या नुकसान हुआ है? यह अभी तक ज्ञात नहीं है।

मौके से कुछ हथियार भी बरामद किए गए हैं। घटनास्थल के पास कुछ दिन पहले सीआरपीएफ का कैंप भी खुला है। यह इलाका नक्सलियों के कोर एरिया में गिना जाता है।