Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Friday, April 19, 2024
झारखंडलोहरदगा

लोहरदगा हिंसा में आतंकियों के स्लीपर सेल का हाथ, एसडीओ ने जताई आशंका

रांची: रामनवमी के दिन लोहरदगा में हुई हिंसा को स्लीपर सेल ने अंजाम दिया है। पुलिस द्वारा अब तक की गई जांच में इसकी संभावना जताई जा रही है। लोहरदगा के एसडीओ अरविंद कुमार लाल ने बातचीत में कहा कि संभावना है कि यह काम आतंकियों की स्लीपर सेल ने किया हो।

एसडीओ ने कहा कि स्लीपर सेल के सदस्य किसी खास संस्था के संपर्क में रहते हैं और संस्था के निर्देश पर घटना को अंजाम देते हैं। लोहरदगा जिले में पिछले दो साल से स्लीपर सेल की गतिविधियां चल रही हैं।

प्रशासन को सूचना मिली थी कि फुटबॉल प्रतियोगिता आयोजित करने के नाम पर आतंकी फंडिंग की जा रही है। एसडीओ ने बताया कि रामनवमी जुलूस के दिन शहर के दुपट्टा चौक से कुटूम-ढोड्हा टोली पथ पर स्लीपर सेल के सदस्य किसी बड़ी घटना को अंजाम देकर सांप्रदायिक हिंसा फैलाना चाहते थे। इसकी जानकारी प्रशासन को समय पर मिल गई। इसके बाद पूरे इलाके में पुलिस बल तैनात कर दिया गया।

इसे भी पढ़ें :- हेमंत सरकार ने राज्य कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के महंगाई भत्ते में की 3 फीसदी की बढ़ोतरी, जल्द होगी घोषणा

स्लीपर सेल के सदस्य ऑटो से उस इलाके में घूम रहे थे। इसकी जानकारी प्रशासन को मिली। प्रशासन की ओर से फौरन कार्रवाई करते हुए पूरे इलाके में तलाशी अभियान चलाया गया। इसकी भनक लगते ही वे चले गए, जिससे प्रशासन को स्लीपर सेल के सदस्यों के बारे में पूरी जानकारी नहीं मिल सकी।

इस बीच जब स्लीपर सेल के सदस्यों को यहां किसी भी घटना को अंजाम देने में सफलता नहीं मिली तो उन्होंने हिरही में इस घटना को अंजाम दिया। एसडीओ ने कहा कि पूरे मामले में दो-तीन बातें बेहद अहम हैं।

इसे भी पढ़ें :- झारखंड में अब सुबह 6 बजे से दोपहर 12:00 बजे तक चलेंगे स्कूल

पहले तो हिरही गांव में पथराव की घटना के बाद स्थिति सामान्य हो गई थी, लेकिन फिर कुछ लोगों को उकसाया गया और हमला किया गया।

दूसरी बात यह है कि जब दोनों पक्षों के बीच विवाद हुआ तो इसी बीच भोक्ता उद्यान मेले में आग लगा दी गई। मेले में आग लगाने की घटना को एक अन्य गुट ने अंजाम दिया है। ऐसा लगता है कि इस घटना को स्लीपर सेल के सदस्यों ने अंजाम दिया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

लोहरदगा हिंसा