Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Friday, April 19, 2024
लोहरदगा

लोहरदगा में एक लाख के इनामी माओवादी ने किया आत्मसमर्पण

लोहरदगा : एक लाख रुपये इनामी भाकपा-माओवादी नक्सली एरिया कमांडर जतरू खेरवार ने आज पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। लोहरदगा जिले के पेशरार थाना के पुतरार गांव निवासी इस नक्सली के खिलाफ सेरेंगदाग और पेशरार थाना में कई मामले दर्ज हैं।

लोहरदगा पुलिस अधीक्षक कार्यालय में सरकार की सरेंडर नीति की नई दिशा के तहत नक्सली ने उपायुक्त डॉ. वाघमारे प्रसाद कृष्ण व एसपी आर. रामकुमार व अन्य अधिकारियों की मौजूदगी में आत्मसमर्पण किया।

रांची की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस मौके पर एसपी ने कहा कि झारखंड सरकार ने राज्य को नक्सल मुक्त राज्य बनाने का संकल्प लिया है। झारखंड पुलिस महानिदेशक एवं पुलिस महानिरीक्षक के निर्देशानुसार झारखंड पुलिस इस संकल्प को धरातल पर उतारने के लिए नक्सली संगठनों के खिलाफ चौतरफा कार्रवाई करने का लगातार प्रयास कर रही है।

पुलिस को इस दिशा में लगातार सफलता भी मिल रही है। राज्य को नक्सल मुक्त बनाने के लिए सरकार की महत्वपूर्ण समर्पण नीति ”नई दिशा” भी नक्सली संगठनों के बीच काफी लोकप्रिय हो रही है। नतीजतन भाकपा-माओवादी समेत कई प्रतिबंधित नक्सली संगठनों के नक्सली पुलिस के सामने सरेंडर कर रहे हैं।

पुलिस द्वारा हाल ही में चलाए गए विशेष अभियान ‘डबल बुल’ के बाद नक्सलियों ने पुलिस के बढ़ते दबाव और नक्सली संगठन के आंतरिक शोषण और झारखंड सरकार की आत्मसमर्पण और पुनर्वास नीति से प्रभावित होकर आत्मसमर्पण कर दिया। जतरू खेरवार के खिलाफ दर्ज सभी मामलों में उसे न्यायिक प्रक्रिया का सामना करना पड़ेगा।

सरेंडर के बाद सरकारी प्रावधान के तहत मौके पर ही जतरू खेरवार को राशि दे दी गयी। शेष सुविधाएं प्रावधान के तहत उपलब्ध होंगी। इस मौके पर ऑपरेशन डीएसपी दीपक पांडे, एसडीपीओ बीएन सिंह, डीएसपी मुख्यालय परमेश्वर प्रसाद के अलावा सीआरपीएफ के अधिकारी मौजूद थे।