Breaking :
||लातेहार: बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये अत्याधुनिक हथियार व अन्य सामान बरामद||रांची हिंसा मामले में डीसी ने 11 आरोपियों पर मुकदमा चलाने की मांगी अनुमति||धनबाद आशीर्वाद टावर फायर मामले में हाई कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, सरकार से पूछा- अबतक क्या की गयी कार्रवाई||चाईबासा: IED ब्लास्ट में एक बार फिर तीन जवान घायल, एयरलिफ्ट कर लाया गया रांची||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में घायल युवक की इलाज के दौरान मौत, 17 फरवरी को होनी थी शादी||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन

लोहरदगा में उपद्रवियों ने एक और दुकान में लगाई आग, पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास को जाने से रोका

लोहरदगा : जिले के सदर थाना क्षेत्र के हिरही गांव में 10 अप्रैल 2022 की शाम रामनवमी जुलूस में पथराव की घटना के बाद भड़की सांप्रदायिक हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। उपद्रवी प्रशासन को लगातार चुनौती दे रहे हैं।

इस घटना में 10 अप्रैल 2022 को एक दर्जन वाहनों और तीन घरों को जलाने के बाद पुलिस-प्रशासन ने व्यापक सुरक्षा इंतजामों से हिंसा पर काबू पाने की उम्मीद जताई थी, लेकिन सोमवार की देर रात एक बार फिर बदमाशों ने हेसल गांव में एक झोपड़ीनुमा होटल में आग लगाकर पुलिस प्रशासन को चुनौती दी।

इधर प्रशासन ने पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास को मौके पर जाने से रोक दिया है। जिसके बाद बीजेपी समर्थकों ने झारखंड सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी की। रघुवर दास लोहरदगा परिसदन रुके हुए हैं।

इसे भी पढ़ें :- मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन करेंगे मर्सिडीज और लैंडरोवर की सवारी

वहीं झारखंड सरकार के मंत्री रामेश्वर उरांव ने कहा है कि रघुवर दास के लोहरदगा आने से सांप्रदायिक हिंसा को और बढ़ावा मिल सकता है। मंत्री ने कहा कि लोहरदगा में रघुवर दास का स्वागत है लेकिन उन्हें हिंसाग्रस्त इलाकों में नहीं जाना चाहिए. वह चाहें तो यहां के पुलिस अधिकारियों और जिला उपायुक्त से मुलाकात कर घटना के संबंध में की गई प्रशासनिक कार्रवाई की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

बताया जा रहा है कि लोहरदगा-चंदवा मुख्य मार्ग पर सदर थाना क्षेत्र के हेसल गांव में सोमवार की रात बदमाशों ने झोपड़ीनुमा होटल में आग लगा दी। यह होटल एक खास समुदाय के व्यक्ति का बताया जा रहा है।

इसे भी पढ़ें :- देवघर रोपवे हादसा : सभी फंसे हुए लोगों को निकाला गया, 3 की हुई मौत

खास बात यह है कि इस पूरे इलाके में भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात हैं और पुलिस-प्रशासन हर कोने पर नजर रखे हुए है। बावजूद इसके इस तरह की घटना ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं।

जिले के विभिन्न ग्रामीण इलाकों में भी स्थिति तनावपूर्ण है, पर स्थिति नियंत्रण में है। अलग-अलग समुदाय के लोग बैठक करते हुए अपनी सुरक्षा को लेकर योजना बना रहे हैं। हालांकि हेसल की घटना के अलावा कहीं और किसी प्रकार की हिंसा की सूचना नहीं है।

विगत 48 घंटे के दौरान लोहरदगा जिले में स्थिति सामान्य होती हुई नजर नहीं आ रही है। इधर 36 घंटे से ज्यादा समय से लोहरदगा जिले में लगातार इंटरनेट सेवा ठप है। जिससे आम-खास लोग काफी परेशान हैं। इंटरनेट सेवा ठप रहने से सूचनाओं का आदान-प्रदान नहीं हो रहा है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें