Breaking :
||लातेहार: बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये अत्याधुनिक हथियार व अन्य सामान बरामद||रांची हिंसा मामले में डीसी ने 11 आरोपियों पर मुकदमा चलाने की मांगी अनुमति||धनबाद आशीर्वाद टावर फायर मामले में हाई कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, सरकार से पूछा- अबतक क्या की गयी कार्रवाई||चाईबासा: IED ब्लास्ट में एक बार फिर तीन जवान घायल, एयरलिफ्ट कर लाया गया रांची||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में घायल युवक की इलाज के दौरान मौत, 17 फरवरी को होनी थी शादी||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन

बालूमाथ: रेलवे पुल में स्लीपर डालते समय मजदूर गिरकर घायल, रिम्स रेफर

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : इन दिनों टोरी बालूमाथ शिवपुर रेलवे लाइन में तीसरी रेलवे लाइन बिछाने का कार्य जोरों पर की जा रही है। इसी क्रम में आज बालूमाथ थाना क्षेत्र के जरी ग्राम स्थित पूल संख्या 185 में रेलवे स्लीपर बैठाने का कार्य चल रहा था। इसी दौरान एक मजदूर स्लीपर का ब्रैकेटिंग काटने के दौरान अनियंत्रित होकर नीचे गिर कर गंभीर रूप से घायल हो गया।

घायल मजदूर की पहचान बालूमाथ थाना क्षेत्र के मुरपा ग्राम निवासी बलराम यादव के पुत्र विनोद यादव के रूप में हुई।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

घायल मजदूर को सहकर्मियों की सहायता से बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया, जहां डॉक्टर पुरुषोत्तम कुमार ने घायल विनोद यादव की स्थिति को देखते हुए प्राथमिक उपचार के पश्चात बेहतर इलाज के लिए रांची रिम्स रेफर कर दिया। इस घटना में विनोद यादव का सिर फट गया है और शरीर के कई अंगों में गंभीर व आंतरिक चोटें आईं हैं।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मिली जानकारी के अनुसार इस पुल का निर्माण कार्य जीएस मल्होत्रा कंपनी के द्वारा कराया जा रहा है। जिसमें मजदूरों की सुरक्षा के मानकों का ख्याल कार्यों के दौरान नहीं रखा जा रहा है। जिस कारण आए दिन रेलवे निर्माण कार्य से जुड़े कार्यों में कई बार मजदूर गंभीर रूप से घायल हो चुके हैं।