Breaking :
||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली

प्रशासनिक अधिकारियों से 6 सूत्री मांगों पर बातचीत के बाद कोलियरी में शुरू हुआ काम

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : सीसीएल कि मगध संघमित्रा एरिया द्वारा संचालित बालूमाथ प्रखंड क्षेत्र स्थित आरा चमातू कोलियरी के विस्थापित ग्रामीणों द्वारा अपनी विभिन्न मांगों को लेकर रविवार को कोलियरी और कंपनियों के सभी कार्यों के बंद करा दिया था। इसके बाद रविवार की देर रात सीसीएल के अधिकारी और लातेहार जिले के प्रशासनिक पदाधिकारी सदल बल कोलियरी पहुचे और विस्थापितों से 6 सूत्री मांगों पर वार्ता करने के बाद आज से कोलियरी के सभी कार्य प्रारंभ करा दिया गया।

इस वार्ता के दौरान ग्रामीणों ने विस्थापित ग्राम क्षेत्र में समुचित मात्रा में पेयजल, बिजली, सड़क की व्यवस्था के साथ-साथ लोगों को भूमि के हिसाब से रोजगार मुआवजा तथा नौकरी देने की बात पर चर्चा की गई।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मौके पर ग्रामीणों ने बताया कि बीते कई वर्षों से हम लोगों के कब्जे में रहने के बावजूद गैरमजरूआ भूमि का रसीद पदाधिकारियों द्वारा नहीं काटी जा रही है और सीसीएल प्रबंधन अपनी मनमानी पर अड़ा हुआ है। जिस बात को लेकर लातेहार एसडीएम शेखर कुमार, सीसीएल की मगध संघमित्रा एरिया के महाप्रबंधक केके सिन्हा, परियोजना पदाधिकारी नृपेंद्र नाथ, बालूमाथ एसडीपीओ अजीत कुमार, बालूमाथ अंचलाधिकारी आफताब आलम, थाना प्रभारी प्रशांत प्रसाद ने कहा कि आप सबकी पानी बिजली सड़क की व्यवस्था 1 माह के भीतर कर दी जाएगी। इसके बाद आपको शिकायत का मौका नहीं मिलेगा।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

वहीं गैरमजरूआ भूमि को लेकर आगामी 3 अगस्त को जिला समाहरणालय में उपायुक्त के साथ बैठक करने की बात कही गई। इसके बाद कोलियरी के सभी कार्यों को पुनः प्रारंभ करने की सहमति विस्थापित ग्रामीणों और प्रशासनिक पदाधिकारियों के बीच की गई। वार्ता के बाद आज से कोलियरी के सभी कार्य प्रारंभ हो गए।

मालूम हो कि विस्थापित ग्रामीणों ने रविवार की दोपहर से ही अपने विभिन्न मांगों को लेकर चमातू कोलियरी के सभी कांटा घरों कार्यालय के साथ-साथ रेडी कंपनी के कार्यालय को बंद करा दिया था और कहा था कि जब तक हम लोगों की मांगे पूरी नहीं होगी तब तक हम लोग नहीं मानेंगे।

विस्थापित ग्रामीणों द्वारा बंद कराए जाने के पश्चात पुलिस में कोयले का उत्खनन परिवहन के साथ-साथ सभी कार्य ठप हो गए थे और परिवहन कार्य में लगी वाहनों की लंबी कतार लग गई थी। इस दौरान सीसीएल प्रबंधन को लाखों रुपए का नुकसान होने की उम्मीद जताई जा रही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

विस्थापित ग्रामीणों की ओर से वार्ता में पंचायत के मुखिया प्रमेश्वर उरांव, विस्थापित नेता ईश्वर साहू, प्रेम साव, भोला राणा, रवि प्रकाश, हरि साव समेत कई विस्थापित और ग्रामीणों ने किया। मौके पर आरा चमातू ग्राम के सैकड़ों पुरुष महिला विस्थापित ग्रामीण मौजूद रहे।