Breaking :
||लातेहार: अब मनिका के डुमरी में दिखा आदमखोर तेंदुआ, गांव में मचा कोहराम, घर में दुबके लोग||लातेहार: किडजी प्री स्कूल में “विद्यारंभ संस्कार” का आयोजन, अभिभावक आमंत्रित||रांची: 10 लाख का इनामी PLFI सब जोनल कमांडर तिलकेश्वर गोप गिरफ्तार||राष्ट्रपति गणतंत्र दिवस पर झारखंड पुलिस के 22 अधिकारियों और कर्मचारियों को करेंगे सम्मानित||आईईडी ब्लास्ट में फिर एक जवान घायल, लाया गया रांची||लातेहार जिले के लिए गौरव भरा पल…राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर राज्यपाल ने डीसी को किया सम्मानित||पलामू में अंतरराज्यीय गिरोह के नौ अपराधी गिरफ्तार, दो करोड़ की रंगदारी मांगने सहित आधा दर्जन मामलों का खुलासा||25 लाख के इनामी माओवादी नवीन यादव ने किया आत्मसमर्पण, 100 से अधिक बड़े नक्सली हमलों में रहा है शामिल||मतदाता सूची सुधार एवं आधार प्रमाणीकरण कार्य में लातेहार जिला झारखंड में अव्वल, डीसी होंगे सम्मानित||पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया PLFI का एरिया कमांडर, हथियार बरामद

मनिका में महिलाओं ने की महिला थाने की मांग

लातेहार : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर ग्राम स्वराज मजदूर संघ की ओर से मनिका में एक रैली एवं सम्मेलन का आयोजन किया गया। हाई स्कूल मैदान से रैली निकाली गई, जो मनिका प्रखंड कार्यालय परिसर में पहुंची और जागरूकता सम्मेलन में बदल गई। सम्मेलन में नुक्कड़ नाटक और हिंसा और लैंगिक भेदभाव पर पारंपरिक सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश कर महिलाओं के अधिकारों के प्रति जागरूक किया गया।

इस मौके पर नामुदाग पंचायत की मुखिया श्यामा सिंह ने कहा कि आज महिलाओं को आजादी मिली है तो यह हम सभी महिलाओं के संघर्ष से ही संभव हो पाया है। अब हमें और अधिक अधिकारों के लिए लड़ने की जरूरत है। आज भी महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। महिलाओं की सुरक्षा के लिए अभी भी संघर्ष की जरूरत है। श्यामा ने झारखंड सरकार से मनिका में महिला थाना बनाने की मांग की। कहा कि मनिका में महिला थाना न होने से महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

महिला नेता सोनमती ने कहा कि सरकार महिलाओं के लिए सरकारी योजनाएं चला रही है, लेकिन योजनाओं की जानकारी के अभाव में योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

इसके लिए लोगों को और जागरूक करने की जरूरत है। आज भी समाज में लड़के और लड़कियों के बीच भेदभाव किया जाता है। इसे खत्म करने के लिए हम सभी को जागरूक करना जरूरी है ताकि समाज से लैंगिक भेदभाव को खत्म किया जा सके।

कार्यक्रम में नीलम उरांव, सतनी देवी, लालो देवी, प्रतिमा देवी, मार्टिना भेंगरा समेत कई महिलाओं ने अधिकारों को लेकर अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम को सफल बनाने में नरेगा सहायता केंद्र की टीम ने मदद की।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *