Breaking :
||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद

ग्रामीणों ने सीसीएल द्वारा कराये जा रहे सड़क निर्माण कार्य को रोका, मुआवजे की मांग

संजय राम/बारियातू

लातेहार : बारियातू प्रखंड अंतर्गत अमरवाडीह पंचायत के सीसीएल द्वारा फुलबसिया, गोलीटांड से बड़काबोन होते हुए चेटर तक निर्माण कराये जा रहे सड़क का काम ग्रामीणों ने ठप करा दिया है।

गोलीटांड, बड़काबोन, फुलबसिया के दर्जनों परिवार के सदस्य भोला गंझू, बासदेव गंझू, रामदेव गंझू, महेंद्र उरांव, लालदेव गंझू, चमन गंझू, हीरा गंझू, बसमतिया देवी, तेतरी देवी, मोहरमनी देवी, मुलिया देवी, मानती देवी, बरती देवी, रांगो देवी सहित अन्य महिला पुरुषों ने बताया कि सीसीएल हमलोगों के साथ शुरू से ही छल करते आ रहा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जब से सीसीएल यंहा से कोयला उठाव कर रहा है तब से हमलोगों का जीना मुश्किल हो गया है। रात दिन धूल फांकने को विवश हो गए है।

सीसीएल हम सभी का जमीन अधिग्रहण कर सड़क निर्माण, कोयला साइडिंग, कोयला उत्खनन कर रही है। पर स्थानीय किसी रैयत को न तो मुआवजा मिला है और न नौकरी मिली।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

2017 से 2021 तक में सीसीएल द्वारा उपरोक्त गांवों में दर्जन भर से अधिक सड़क बनाया जा चुका है। लेकिन किसी को भी मुआवजा का भुगतान नहीं किया गया है। बीते आठ जून से बीपीएल कंपनी द्वारा फुलबसिया गोली टांड, बड़काबोन होते हुए चेटर तक चौरा दोहर के उपजाऊ जमीन खेत टांड लगभग चार सौ एकड़ जमीन को 1962 में अधिग्रहण बताते हुए सड़क निर्माण करना चाह रही थी। जिसे हम सभी गांव वासियों ने ठप करा दिया है।

ग्रामीणों कहा कि जब कभी अपने हक के लिए आंदोलन करने को एकजुट होते है तो फुलबसिया पिकेट के प्रभारी द्वारा अभद्र व्यवहार करते हुए जेल भेजने की धमकी दी जाती है।

पलामू प्रमंडल की ताज़ा ख़बरें यहाँ पढ़ें

ग्रामीणों ने जिला प्रशासन, प्रखंड प्रशासन, सीसीएल के अधिकारी व रैयतों से त्रिपक्षीय वार्ता संपन्न करते हुए पहले मुआवजा नौकरी दे तभी सड़क निर्माण होने देंगे। समाचार लिखे जाने तक दर्जनों महिला पुरुष होने वाले सड़क निर्माण स्थल पर ही जमे थे।