Breaking :
||रांची में बाइक सवार बदमाशों ने पति-पत्नी को मारी गोली, दोनों की मौत||TSPC के जोनल कमांडर ने किया बड़ा खुलासा, झारखंड में हिंसा फैलाने के लिए खरीद रहा था विदेशी हथियार||भारत-इंग्लैंड टेस्ट मैच को लेकर बल्लेबाज शुबमन गिल ने पत्रकारों से कहा- रांची में ही सीरीज जीतने के लिए हम तैयार||पलामू: बच्चों को आशीर्वाद देने निकले किन्नरों से मारपीट, आक्रोश||झारखंड: प्रेमी ने शादी से किया इंकार तो प्रेमिका ने दे दी जान||गढ़वा: JJMP के उग्रवादियों ने पुल निर्माण स्थल पर मचाया उत्पात, मशीनों में की तोड़फोड़, मजदूरों से मारपीट||झारखंड विधानसभा का बजट सत्र 23 फरवरी से, स्पीकर ने की उच्च स्तरीय बैठक||विधायक भानु प्रताप शाही एससी-एसटी एक्ट में बरी, चार लोगों को छह-छह माह कारावास की सजा||रांची पहुंची भारत और इंग्लैंड की टीमें, पारंपरिक अंदाज में हुआ स्वागत||लातेहार: ईंट भट्ठा पर फायरिंग कर अपराधियों ने फैलायी दहशत, कर्मियों को पीटा, संचालक को दी चेतावनी
Thursday, February 22, 2024
चंदवालातेहार

लातेहार: ग्रामीणों ने गांव की सीमा पर लगाया बोर्ड, बाहरी लोगों के प्रवेश पर रोक

लातेहार : चंदवा प्रखंड में प्रस्तावित बनहरदी कोयला ब्लॉक से प्रभावित बारी पंचायत के ग्रामीणों ने पांचवीं अनुसूचित क्षेत्र का हवाला देते हुए ग्राम सभा के बाद पारंपरिक रीति से पूजा कर पंचायत की सीमा पर बोर्ड लगा दिया है। ग्राम सभा ने पांचवीं अनुसूचित क्षेत्र का हवाला देते हुए गांव में बाहरी लोगों के प्रवेश पर रोक लगा दी है।

बारी गांव के प्रवेश मार्ग के अलावा सीमा पर कुल पांच ऐसे बोर्ड लगाए गए हैं। ब्लॉक में बनहरदी कोल ब्लॉक शुरू किया जाना है। यह कोयला ब्लॉक एनटीपीसी कंपनी के नाम है। बनहरदी के अलावा बारी, एटे, छातासेमर, डडैया, बरवाडीह समेत अन्य गांव प्रभावित हो रहे हैं। इस कोयला ब्लॉक को लेकर स्थानीय ग्रामीणों द्वारा पहले से ही विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है।

बारी पंचायत की सीमा पर लगे बोर्ड में लिखा है कि पूजा के बाद पाहन-पुजेर की उपस्थिति में बोर्ड लगाया गया है। बोर्ड पर जय जजमेंट, जय आदिवासी, जय जोहार अंकित हैं। बोर्ड में भारत के संविधान की पांचवीं अनुसूची का हवाला देते हुए गांव में स्वतंत्र रूप से भ्रमण करना, बसना, व्यापार करना आदि अंकित है।

उल्लेखनीय है कि इसी माह वन अधिकार समिति व अंचल कार्यालय की पहल पर बारी व बनहरदी गांव में ग्राम सभा का आयोजन किया गया था। इन दोनों गांवों में ग्राम सभा का जोरदार विरोध हुआ। यहां ग्राम सभा करने आए अंचल निरीक्षक, राजस्व कर्मचारी के अलावा कंपनी के लोग जमीन पर बैठने को मजबूर हो गए। अंतत: करीब तीन घंटे के बाद बांड लिखकर वापस भेज दिया गया कि वह यहां दूसरी बार कभी नहीं आएंगे।