Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

लातेहार: ग्रामीणों ने गांव की सीमा पर लगाया बोर्ड, बाहरी लोगों के प्रवेश पर रोक

लातेहार : चंदवा प्रखंड में प्रस्तावित बनहरदी कोयला ब्लॉक से प्रभावित बारी पंचायत के ग्रामीणों ने पांचवीं अनुसूचित क्षेत्र का हवाला देते हुए ग्राम सभा के बाद पारंपरिक रीति से पूजा कर पंचायत की सीमा पर बोर्ड लगा दिया है। ग्राम सभा ने पांचवीं अनुसूचित क्षेत्र का हवाला देते हुए गांव में बाहरी लोगों के प्रवेश पर रोक लगा दी है।

बारी गांव के प्रवेश मार्ग के अलावा सीमा पर कुल पांच ऐसे बोर्ड लगाए गए हैं। ब्लॉक में बनहरदी कोल ब्लॉक शुरू किया जाना है। यह कोयला ब्लॉक एनटीपीसी कंपनी के नाम है। बनहरदी के अलावा बारी, एटे, छातासेमर, डडैया, बरवाडीह समेत अन्य गांव प्रभावित हो रहे हैं। इस कोयला ब्लॉक को लेकर स्थानीय ग्रामीणों द्वारा पहले से ही विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है।

बारी पंचायत की सीमा पर लगे बोर्ड में लिखा है कि पूजा के बाद पाहन-पुजेर की उपस्थिति में बोर्ड लगाया गया है। बोर्ड पर जय जजमेंट, जय आदिवासी, जय जोहार अंकित हैं। बोर्ड में भारत के संविधान की पांचवीं अनुसूची का हवाला देते हुए गांव में स्वतंत्र रूप से भ्रमण करना, बसना, व्यापार करना आदि अंकित है।

उल्लेखनीय है कि इसी माह वन अधिकार समिति व अंचल कार्यालय की पहल पर बारी व बनहरदी गांव में ग्राम सभा का आयोजन किया गया था। इन दोनों गांवों में ग्राम सभा का जोरदार विरोध हुआ। यहां ग्राम सभा करने आए अंचल निरीक्षक, राजस्व कर्मचारी के अलावा कंपनी के लोग जमीन पर बैठने को मजबूर हो गए। अंतत: करीब तीन घंटे के बाद बांड लिखकर वापस भेज दिया गया कि वह यहां दूसरी बार कभी नहीं आएंगे।