Breaking :
||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार||लोससभा चुनाव: भाजपा की 195 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, देखें पूरी लिस्ट||सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा||झारखंड विधानसभा: बजट सत्र के अंतिम दिन कई विधेयक पारित||धनबाद: अस्पताल में लगी आग, मची अफरा-तफरी, मरीज और परिजन जान बचाकर भागे
Saturday, March 2, 2024
लातेहार

ग्रामीणों ने पैतृक संपत्ति वितरण शिविर में जमीन ऑनलाइन कराकर मिनी सर्वे कराने की मांग

पैतृक संपत्ति वितरण शिविर

संजय राम/बारियातू

लातेहार : उपायुक्त के निर्देश पर बारियातू पंचायत सचिवालय में लगाए गए पैतृक संपत्ति वितरण शिविर में गाड़ी व नचना गांव की भूमि को ऑनलाइन करते हुए क्षेत्र में मिनी सर्वे कराने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने अंचलधिकारी के नाम एक आवेदन सौंपा है।

शिविर में उपस्थित ग्रामीणों ने आवेदन के माध्यम से बताया है कि गाड़ी व नचना गांव का रैयती खतियानी भूमि ऑनलाइन नहीं होने से जाति, स्थानीय, आय प्रमाण पत्र नहीं बनने के साथ-साथ जमीन की खरीद बिक्री नहीं हो पा रही है, जिससे लोगों को काफी परेशानी हो रही है।

नया सर्वे में काफी गड़बड़ी होने की बात को बताते हुए ग्रामीणों ने कहा कि नया सर्वे में नाम किसी का और जमीन किसी का कर दिया गया है। जिससे गरीब गुरबे मजदूर लोगों को कोर्ट कचहरी का चक्कर लगाना पड़ रहा है। इससे काफी विवाद की स्थिति उत्पन्न हो गई है। गड़बड़ वाली सर्वे को रद्द करते हुए पुनः मिनी सर्वे कराने की ग्रामीणों ने मांग की है।

आलम यह है की नया सर्वे में त्रुटि के कारण गैरमौजरूआ भूमि को बिहार सरकार, गैरमजूरवा भूमि की रसीद नहीं काटना, 1932 की खतियातन के आधार पर गैरमजूरवा भूमि को रैयती कर कागज मे ही खरीद बिक्री कर मुलवासियों को परेशान किया जा रहा है जिससे भयावह स्थित उत्पन्न होने की संभावनाबन रही है। कई गरीब परिवार भूमिहीन होने के कगार पर भी है।

आवेदन मे बताया की बैगा पाहन को व्यक्तिगत मालिकाना हक़ नहीं दिया जाय। क्योंकि व्यक्तिगत मालिकाना हक दिए जाने से वैध तरीके से भूमि बिक्री कर दिया जा रहा है। जिससे देवी देवताओं को पूजा करने वाले बैगा पाहन का अस्तित्व नहीं बच पायेगा!

पीड़ित लोगों ने हस्ताक्षर युक्त आवेदन के माध्यम से यह भी बताया की पूर्वजों का जमीन नया सर्वे मे अन्य लोगों के नाम पर चला गया है। जिससे कोर्ट कचहरी का चक्कर लगाने को बिवश हैं। नया सर्वे को रद्द कर धरातल में जाकर मिनी सर्वे कराने की ग्रामीणों ने सरकार से मांग की है।

आपको बताते चलें की निष्पक्ष निष्पादन के लिए गत सर्वे या हाल सर्वे को रद्द करना होगा। लातेहार जिला में हाल सर्वे यानि नया सर्वे के बाद जमीन सम्बंधित मामले काफी बढ़ गए हैं। यदि नया सर्वे रद्द नहीं किया गया तो जाहिर सी बात है कि सिर्फ मिनी सर्वे के नाम पर औपचारिकता निभाया जायेगा। ग्रामीणों ने नया सर्वे को रद्द करते हुए मिनी सर्वे कराने की सरकार से मांग की है।

मौके पर सदर मुखिया बारियातू प्रमोद उरांव, प्रखंड बिससूत्री अध्यक्ष राजेन्द्र गंझू , राज्य सभा सांसद प्रतिनिधि सह कांग्रेस प्रखंड अध्यक्ष रिगन कुमार, बढ़ो उरांव, राजू उरांव, प्रदीप उरांव, बिनेस, सुरेश, सुखमनी देवी, मनोज राम, जगु उरांव, महेंद्र प्रसाद सहित काफ़ी संख्या मे ग्रामीणों मौजूद थे।

पैतृक संपत्ति वितरण शिविर


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *