Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

नदी की तेजधार में बहे दो ग्रामीण, एक का शव बरामद, दूसरे की तलाश जारी

संजय राम/बरियातू

लातेहार : जिले के बारियातू प्रखंड के फुलसू पंचायत के मंजुआखाड़ निवासी नरेश गंझू सोमवार की रात जिउतिया पर आयोजित जतरा मेला देख कर घर वापस लौटने के दौरान डूबकुलवा नदी में अचानक आयी बाढ़ में बह गए।

ग्रामीण उनकी तलाश में सोमवार की रात से ही लगे हुए थे। नरेश गंझू के शव को खोजने के दौरान उसी नदी की झाड़ी में फंसे एक अन्य व्यक्ति हेठार निवासी सबूर गंझू (55) का शव मिला। लेकिन अभी तक नरेश गंझू का शव नहीं मिल सका है। जिससे उनके परिजन काफी परेशान है।

नदी में बहे नरेश गंझू का परिवार

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मंगलवार की सुबह ग्रामीणों के अथक प्रयास से खोजबीन के दौरान कुसमाही, हेरहंज के पास एक शव बरामद किया गया। जिसकी पहचान हेठार निवासी सबूर गंझू के रूप में हुई।

मंजुआखाड़ निवासी नरेश गंझू की खोज समाचार लिखे जाने तक नदी में की जा रही थी। मृतक सबूर के परिजनों ने बताया कि वे अपनी पुत्री के घर गए थे। कब नदी में डूब गए। हम सब को पता भी नही चल सका।

इधर, हेरहंज थाना प्रभारी मुकेश चौधरी व बारियातू टीओपी प्रभारी कुंदन कुमार जब सबूर गंझू के शव को पोस्मार्टम कराने ले जाने लगे तो दर्जनों ग्रामीण शव को ले जाने से रोक दिया। ग्रामीणों का कहना है कि स्थानीय विधायक, उपायुक्त आएंगे। नदी पर पुल बनने का आश्वासन देंगे तभी शव पोस्मार्टम के लिए जाएगा।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

समाचार लिखे जाने तक ग्रामीण शव को अपने साथ ही रखे थे। वही ग्रामीणों ने बताया पिछले कई वर्षों से नदी पर पल का निर्माण नहीं होने से आने जाने में काफी कठिनाई होती है। इस नदी पर पुल का निर्माण कराना अति आवश्यक है।