Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

बालूमाथ: निजी जमीन से हो रहा कोयले का परिवहन, लिखित आवेदन देने के बावजूद नहीं हो रही कार्रवाई, परिवहन कार्य ठप करने की चेतावनी

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

उपायुक्त से जमीन की यथाशीघ्र जांच करा उचित मुआवजा देने की मांग

लातेहार : बालूमाथ प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत धाधु पंचायत के कुशमाही कोयला साइडिंग के पास गांव हेमपुर के हल्का नंबर 12 खाता 160 प्लॉट 1080 रैयत का पुश्तैनी जमीन है जिस पर पिछले 1 वर्ष से उक्त रैयती भूमि से जबरन कोयला लदे वाहनों का परिवहन कराया जा रहा है। जिसके चलते इस भूमि पर पर्याप्त मात्रा में फसल भी नहीं की जा रही है।

नहीं लिया जा रहा संज्ञान, मानसिक तनाव में रैयत

मामले को लेकर भूमि के रैयत जिले के उपायुक्त, अंचलाधिकारी, पुलिस अनुमडल पदाधिकारी बालूमाथ, थाना प्रभारी बालूमाथ को लिखित आवेदन दिया गया है। इसके बावजूद पुलिस प्रसासन द्वारा अभी तक कोई संज्ञान नहीं लिया गया है। इस मामले को लेकर पीड़ित रैयत बार-बार पुलिस कार्यालय जा जा कर मानसिक तनाव में आ गए हैं। पर अभी तक प्रखंड एवं जिला पुलिस प्रशासन द्वारा उक्त मामले पर कुछ पहल नहीं हो पाया है।

यदि पुलिस प्रशासन संज्ञान नहीं लेती है तो बाध्य होकर परिवहन कार्य करेंगे ठप : रैयत

पीड़ित रैयतों ने जिले के उपायुक्त से मामले पर यथाशीघ्र संज्ञान लेने की आग्रह किया है। ताकि भूमि का जांच कर उचित मुआवजा दिलाया जाए। रैयत ने यह भी कहा अगर इस मामले में जांच कर मुआवजा दिलवाने में पुलिस-प्रशासन सक्षम नहीं है, तो हम अपने निजी जमीन पर कोयला परिवहन कार्य बाध्य होकर रोक देंगे। जिसकी पूरी जवाब देहि पुलिस प्रशासन की होगी।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें