Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Thursday, May 30, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहार

राज्य सरकार ने तुबेद कोयला खदान परियोजना के लिए डीवीसी को 90.41 करोड़ में 431 एकड़ दी जमीन

तुबेद कोयला खदान परियोजना – कोलियरी खुलने का रास्ता साफ़

रांची : लातेहार जिले के अंतर्गत विभिन्न स्थानों पर तुबेद कोयला खदान परियोजना के लिए दामोदर घाटी निगम को 431.04 एकड़ भूमि देने की राज्य सरकार ने स्वीकृति प्रदान की है। राजस्व, निबंधन एवं भूमि सुधार विभाग ने इस संबंध में शासनादेश जारी किया है।

लातेहार में तुबैद कोयला खदान परियोजना को भुगतान के रूप में 90.41 करोड़ रुपये के भुगतान के खिलाफ डीवीसी को 30 साल के लिए पट्टे के रूप में निपटाया गया है। यह जमीन लातेहार के मौजा-धोबियाझरण, डीही, मंगरा, तुबेद, नेवाड़ी और अंबाझारन में है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

गैरमजरूआ आम, ख़ास और वन-झाड़ी भूमि है। इस जमीन का सालाना किराया 59.28 लाख रुपये से ज्यादा तय किया गया है।

राजस्व एवं निबंधन भूमि सुधार विभाग ने लातेहार जिले के अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिये हैं कि प्रस्तावित भूमि के पट्टा बंदोबस्त से संबंधित सभी खातों एवं भूखंडों में रकबे का सत्यापन एवं मिलान कर भूमि को पट्टे पर दिया जाये। उन्हें खतियान और अन्य राजस्व पत्रों के साथ बंदोबस्त की कार्रवाई की जाए।

पलामू प्रमंडल की ताज़ा ख़बरें यहाँ पढ़ें

वहीं, जिस कार्य के लिए भूमि ली जा रही है यदि उस कार्य के लिए उपयोग नहीं हो रहा है, उसे 12 माह के भीतर वापस लेने की कार्रवाई की जायेगी।

इसके अलावा खनन क्षेत्र में भू-दान, कब्रिस्तान, श्मशान, धार्मिक स्थल आदि खनन क्षेत्र में पड़ने की स्थिति में डीवीसी को वैकल्पिक व्यवस्था करनी होगी।