Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

बालूमाथ में जंगली हाथियों का आतंक, स्कूल शौचालय, कार्यालय के साथ पोल्ट्री फार्म को किया नष्ट

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : बालूमाथ थाना क्षेत्र के विभिन्न ग्रामीण क्षेत्रों में जंगली हाथियों ने एक बार फिर अपना आतंक मचाना शुरू कर दिया है। इसी क्रम में सोमवार की देर रात बालूमाथ प्रखंड मुख्यालय से सटे तसतवार ग्राम स्थित कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय के पास बिरनी यादव के पोल्ट्री फार्म को तहस-नहस कर दिया l

जबकि इसी गांव से कुछ दूरी पर स्थित चेतुआग ग्राम अंतर्गत करमटाड़ में जमकर उत्पात मचाया। जहां जंगली हाथियों ने उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय के बालक बालिका के शौचालय को पूरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया। जबकि विद्यालय के पाकशाला और कार्यालय के खिड़की और दरवाजे तोड़कर 3 बोरी चावल खाया और नष्ट कर दिया ।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इसी दौरान हाथियों ने विद्यालय से कुछ दूरी पर स्थित बाबूलाल गंझू के घर को भी आंशिक रूप से क्षति पहुंचाई। जंगली हाथियों द्वारा किए गए हमले के दौरान बिरनी यादव एवं उसके पुत्र गंगाधर यादव तथा बाबूलाल गंझू ने किसी तरह से भाग कर अपनी जान बचाई और राहत की सांस ली।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

इधर जंगली हाथियों द्वारा पुनःआतंक मचाए जाने से ग्रामीणों में दहशत का माहौल देखा जा रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि अगर गांव के ग्रामीण समय रहते नहीं जगते तो विद्यालय और आसपास के घरों के साथ-साथ जानमाल की काफी क्षति होती।