Breaking :
||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद

टाना भगतों का आंदोलन तीसरे दिन भी जारी, समाहरणालय समेत कई सरकारी कार्यालयों में कामकाज ठप

लातेहार : जिले में हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के विरोध में अखिल भारतीय टाना भगत संघ का आंदोलन तीसरे दिन भी जारी रहा। समाहरणालय परिसर में तिरंगा झंडा के साथ आये टाना भगतों ने डीसी कार्यालय का घेराव किया।

वहीं टाना भगतों ने अनुमंडल कार्यालय, वन प्रमंडल, प्रखंड सह अंचल कार्यालय से सभी कर्मियों को बाहर निकाल कर ताला जड़ा। जिससे सरकारी काम ठप हो गया है। टाना भगत संघ के द्वारा पांचवी अनुसूची का हवाला देते हुए पंचायत चुनाव रद्द करने की मांग जारी है।

समाहरणालय में पत्रकारों से बात करते हुए अखिल भारतीय टाना भगत संघ के जिलाध्यक्ष परमेश्वर भगत ने कहा कि आदिवासियों के कई संगठनों ने जिला प्रशासन को कई बार आवेदन देकर पांचवी अनुसूची संविधान के अनुसार कार्य करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि पांचवी अनुसूची के अनुसार जिले में स्वशासन गांव का शासन चलेगा।

उन्होंने कहा कि संविधान की पांचवी अनुसूची के अनुसार जिले में शासन व्यवस्था पर नियंत्रण जनजातियों के हाथों में होना चाहिए।

सरकारी कार्यालय में ताला लगने के बाद जिला परिषद एवं पंचायत समिति सदस्य के नामांकन की प्रक्रिया 20 सूत्री एवं जिला नियंत्रण कक्ष में किया जा रहा है। मालूम हो कि टाना भगत ने मंगलवार को राज्य में पंचायत चुनाव रद्द करने की मांग को लेकर आंदोलन शुरू कर दिया था। आंदोलन के पहले व दूसरे दिन टाना भगत जिला कलेक्ट्रेट परिसर पर कब्जा कर विरोध जताया। जिला प्रशासन के अधिकारियों ने काफी समझाने की कोशिश की, लेकिन टाना भगत नहीं माने।

Latehar News