Breaking :
||झारखंड में सात IAS अफसरों का टांस्फर-पोस्टिंग, रमेश घोलप बने चतरा डीसी||गढ़वा जाने के क्रम में लातेहार पहुंचे सीएम चम्पाई सोरेन, कहा- बैद्यनाथ राम को मंत्री बनाने पर फैसला जल्द||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार||लोससभा चुनाव: भाजपा की 195 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, देखें पूरी लिस्ट||सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा
Sunday, March 3, 2024
लातेहार

टाना भगतों का आंदोलन तीसरे दिन भी जारी, समाहरणालय समेत कई सरकारी कार्यालयों में कामकाज ठप

लातेहार : जिले में हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के विरोध में अखिल भारतीय टाना भगत संघ का आंदोलन तीसरे दिन भी जारी रहा। समाहरणालय परिसर में तिरंगा झंडा के साथ आये टाना भगतों ने डीसी कार्यालय का घेराव किया।

वहीं टाना भगतों ने अनुमंडल कार्यालय, वन प्रमंडल, प्रखंड सह अंचल कार्यालय से सभी कर्मियों को बाहर निकाल कर ताला जड़ा। जिससे सरकारी काम ठप हो गया है। टाना भगत संघ के द्वारा पांचवी अनुसूची का हवाला देते हुए पंचायत चुनाव रद्द करने की मांग जारी है।

समाहरणालय में पत्रकारों से बात करते हुए अखिल भारतीय टाना भगत संघ के जिलाध्यक्ष परमेश्वर भगत ने कहा कि आदिवासियों के कई संगठनों ने जिला प्रशासन को कई बार आवेदन देकर पांचवी अनुसूची संविधान के अनुसार कार्य करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि पांचवी अनुसूची के अनुसार जिले में स्वशासन गांव का शासन चलेगा।

उन्होंने कहा कि संविधान की पांचवी अनुसूची के अनुसार जिले में शासन व्यवस्था पर नियंत्रण जनजातियों के हाथों में होना चाहिए।

सरकारी कार्यालय में ताला लगने के बाद जिला परिषद एवं पंचायत समिति सदस्य के नामांकन की प्रक्रिया 20 सूत्री एवं जिला नियंत्रण कक्ष में किया जा रहा है। मालूम हो कि टाना भगत ने मंगलवार को राज्य में पंचायत चुनाव रद्द करने की मांग को लेकर आंदोलन शुरू कर दिया था। आंदोलन के पहले व दूसरे दिन टाना भगत जिला कलेक्ट्रेट परिसर पर कब्जा कर विरोध जताया। जिला प्रशासन के अधिकारियों ने काफी समझाने की कोशिश की, लेकिन टाना भगत नहीं माने।

Latehar News