Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Sunday, June 16, 2024
लातेहार

टाना भगतों का आंदोलन तीसरे दिन भी जारी, समाहरणालय समेत कई सरकारी कार्यालयों में कामकाज ठप

लातेहार : जिले में हो रहे त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के विरोध में अखिल भारतीय टाना भगत संघ का आंदोलन तीसरे दिन भी जारी रहा। समाहरणालय परिसर में तिरंगा झंडा के साथ आये टाना भगतों ने डीसी कार्यालय का घेराव किया।

वहीं टाना भगतों ने अनुमंडल कार्यालय, वन प्रमंडल, प्रखंड सह अंचल कार्यालय से सभी कर्मियों को बाहर निकाल कर ताला जड़ा। जिससे सरकारी काम ठप हो गया है। टाना भगत संघ के द्वारा पांचवी अनुसूची का हवाला देते हुए पंचायत चुनाव रद्द करने की मांग जारी है।

समाहरणालय में पत्रकारों से बात करते हुए अखिल भारतीय टाना भगत संघ के जिलाध्यक्ष परमेश्वर भगत ने कहा कि आदिवासियों के कई संगठनों ने जिला प्रशासन को कई बार आवेदन देकर पांचवी अनुसूची संविधान के अनुसार कार्य करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि पांचवी अनुसूची के अनुसार जिले में स्वशासन गांव का शासन चलेगा।

उन्होंने कहा कि संविधान की पांचवी अनुसूची के अनुसार जिले में शासन व्यवस्था पर नियंत्रण जनजातियों के हाथों में होना चाहिए।

सरकारी कार्यालय में ताला लगने के बाद जिला परिषद एवं पंचायत समिति सदस्य के नामांकन की प्रक्रिया 20 सूत्री एवं जिला नियंत्रण कक्ष में किया जा रहा है। मालूम हो कि टाना भगत ने मंगलवार को राज्य में पंचायत चुनाव रद्द करने की मांग को लेकर आंदोलन शुरू कर दिया था। आंदोलन के पहले व दूसरे दिन टाना भगत जिला कलेक्ट्रेट परिसर पर कब्जा कर विरोध जताया। जिला प्रशासन के अधिकारियों ने काफी समझाने की कोशिश की, लेकिन टाना भगत नहीं माने।

Latehar News