Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

लातेहार में टाना भगतों का आंदोलन चौथे दिन भी जारी, रेलवे ट्रैक जाम करने की चेतावनी

टाना भगत आंदोलन लातेहार

लातेहार : टाना भगतों ने यह चेतावनी दी है कि अगर झारखंड के 14 जिलों में पंचायत चुनाव की प्रक्रिया को नहीं रोका गया और चुनाव रद्द नहीं किया गया तो रेल सेवाएं पूरी तरह से ठप कर दी जाएंगी।

इसे भी पढ़ें :- खून के रिश्ते कलंकित : सगे भाई ने दो बहनों को बनाया हवस का शिकार, मां को भी नहीं छोड़ा

रेल से लेकर सड़क मार्ग भी करेंगे जाम

शुक्रवार को भी टाना भगत अपनी मांगों को लेकर अड़े हुए हैं। टाना भगत संघ के जिलाध्यक्ष बहादुर टाना भगत का कहना है कि जब तक उनकी मांगें नहीं मानी जाती तब तक आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने यह आरोप लगाया है कि सरकार पांचवीं अनुसूची का उल्लंघन कर जबरन पंचायत चुनाव कराने की कोशिश कर रही है। उनका कहना है कि पांचवीं अनुसूची के अनुसार लातेहार जिला अधिसूचित क्षेत्र है, जहां शासन स्थानीय लोगों द्वारा चलाई जानी चाहिए। यह आंदोलन राज्यपाल या पंचायती राज्य सचिव के आने के बाद ही समाप्त की जाएगी। अगर ऐसा नहीं हुआ तो टाना भगत रेलवे ट्रैक तक जाने वाले रास्ते को जाम कर देंगे।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

इन जिलों में पंचायत चुनाव रद्द करने की मांग

टाना भगत संघ इन 14 जिलों में पंचायत चुनाव रद्द करवाना चाहते हैं। जिसमे लातेहार , रांची, लोहरदगा, गुमला, सिमडेगा, पूर्वी सिंहभूम, पश्चिमी सिंहभूम, सरायकेला-खरसावां, साहेबगंज, दुमका, पाकुड़, जामताड़ा, पलामू, गढ़वा जिले शामिल हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

टाना भगत आंदोलन लातेहार