Breaking :
||बड़ा रेल हादसा: शालीमार से चेन्नई जा रही कोरोमंडल एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त, 50 यात्रियों की मौत, 350 से अधिक घायल||पलामू: सतबरवा SBI शाखा में महिला से रुपये उड़ाने वाले संदिग्ध अपराधियों की तस्वीर आयी सामने, सहयोग की अपील||गुमला: मुठभेड़ में मारा गया 2 लाख का इनामी माओवादी एरिया कमांडर लाजिम अंसारी||लातेहार: बालूमाथ में यात्री बस डिवाइडर से टकराकर दुर्घटनाग्रस्त, महिला समेत दो की मौत||JOB: लातेहार जिले में विशेष भर्ती कैंप का आयोजन, 450 पदों पर प्रशिक्षण के बाद होगी सीधी नियुक्ति||गुमला: शादी समारोह में शामिल होने आयी नाबालिग छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म||लातेहार: चंदवा में फंदे से लटका मिला नवविवाहित जोड़े का शव, एक माह पहले किया था प्रेम विवाह, दो दिन पहले प्रेमी के भाई ने भी कर ली थी ख़ुदकुशी||पलामू: पेड़ से लटका मिला नवविवाहित का शव, दो माह पहले किया था अंतर्जातीय प्रेम विवाह, लातेहार में है मायका||गुमला: सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया दो लाख का इनामी माओवादी राजेश उरांव||पलामू : सतबरवा SBI शाखा में पैसे जमा कराने आयी महिला से अपराधियों ने उड़ाए 84 हजार रुपये, घटना सीसीटीवी में कैद

गैंगेस्टर अमन साहू की अर्जी पर जेल अधीक्षक को जवाब देने का आदेश पारित

लातेहार : गिरिडीह जेल में बंद गैंगेस्टर अमन साहू की अर्जी पर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी मो अब्दुल नसीर की अदालत ने जेल अधीक्षक को जवाब देने का आदेश पारित किया है।

ज्ञात हो कि लंबित जीआर मामला संख्या 276/21 पर सुनवाई करते हुए श्री नसीर की अदालत ने उक्त आदेश पारित करते हुए मंडल जेल अधीक्षक लातेहार के माध्यम से गिरिडीह जेल अधीक्षक को याचिका की प्रति भेजने का आदेश पारित किया है.

अमन साहू के वकील सुनील कुमार ने बताया कि उनके मुवक्किल को गिरिडीह जेल प्रशासन प्रताड़ित कर रहा है. उन्होंने आगे बताया कि जेल प्रबंधन उनके मौलिक और वैधानिक अधिकारों का उल्लंघन कर रहा है। उनके मोवककील के द्वारा बंदी आवेदन दिया जा रहा जिसे संबंधित अदालतों तक नहीं पहुंचाया जा रहा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इसी आशय का एक अन्य आवेदन सोमवार को अनुमंडल न्यायिक दंडाधिकारी मिथिलेश कुमार की अदालत में विचाराधीन मामला संख्या जीआर 100/21 में भी दिया गया था। उक्त आवेदन के आलोक में श्री कुमार की अदालत द्वारा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बंदी अमन साहू से पूछताछ किया था और कारा पाल गिरिडीह को जवाब देने का निर्देश जारी किया था।

गैंगेस्टर अमन साहू