Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Sunday, June 16, 2024
बरियातू न्यूज़लातेहार

लातेहार: दो बच्चों की मां को चढ़ा इश्क का बुखार, दोनों बच्चों को ले प्रेमी संग फरार, पीड़ित पति पहुंचा थाने

संजय राम/बारियातू

लातेहार : जिले के बारियातू प्रखंड के अमरवाडीह पंचायत अंतर्गत बजरमरी टोला गांव की दो बच्चों की मां अपने दोनों बच्चों को लेकर प्रेमी संग फरार हो गई है। पति ने थाने में आवेदन देकर गांव के ही एक युवक पर पत्नी व बच्चों को भगा ले जाने का आरोप लगाया है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

आवेदन में बजरमरी टोला निवासी अमोल उरांव (पिता कैला उरांव) ने बताया है कि मैं खेती किसानी कर परिवार का भरण पोषण करता हूं। बीते 11 जुलाई को उसकी पत्नी गांव के ही विश्वनाथ गंझू (पिता बिगु गंझू) के साथ फरार हो गयी। वह साथ में मेरे दोनों बच्चे 9 वर्षीय नेहा कुमारी व 7 वर्षीय पुत्र निशांत कुमार को भी बहला-फुसलाकर साथ लेकर गयी है।

दो साल से चल रहा था प्रेम प्रसंग

पीड़ित पति ने बताया कि इन दोनों के बीच करीब दो साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था। मेरी पत्नी विश्वनाथ गंझू से हमेशा मोबाइल पर बात करती थी। मना करने पर भी वह नहीं मानती थी। करीब एक वर्ष पूर्व जब मोबाइल पर बात करते दोनों को रंगेहाथ पकड़ा था तो इसे लेकर गांव में बैठक बुलाई गयी थी। जिसमें आरोपी युवक को गांव के लोगों ने ऐसा नहीं करने की हिदायत दी थी। ग्रामीणों को समझाने के बाद भी उसने उनकी एक नहीं सुनी और 11 जुलाई को मेरी पत्नी और दोनों बच्चों को साथ लेकर भाग गया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

बताया कि उसने अपने स्तर से उनकी काफी खोजबीन की लेकिन कहीं पता नहीं चल सका। अंत में बालूमाथ थाने में आवेदन देकर मदद की गुहार लगाई है।