Breaking :
||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश||पलामू: हार्डकोर इनामी माओवादी नीतेश के दस्ते का सक्रिय सदस्य गिरफ्तार||लातेहार: 65 हेली ड्रॉपिंग बूथ के लिए शुभकामनायें लेकर मतदान कर्मी रवाना
Monday, May 20, 2024
मनिकालातेहार

बेटे की मौत से नाराज परिजनों ने अपने ही रिश्तेदारों को घर में बंद कर लगाई आग, पुलिस की सक्रियता से होते-होते टली मॉब लिंचिंग की घटना

Manika News Mob Lynching

लातेहार : ज़िले के मनिका थाना क्षेत्र के सिंजो गांव में सोमवार की सुबह अपने बेटे की मौत से नाराज गणेश सिंह ने परिजनों के साथ मिलकर नटाई सिंह और उनके परिजनों को मौत का जिम्मेवार मानते हुए उन्हें घर में बंद कर जिन्दा जलाने के लिए किरासन तेल छिड़क कर आग लगा दी। घर चारो ओर से धू-धू कर जलने लगा। आग की लपटें तेज होने लगी।

घर में बंद नटाई सिंह के पुत्र तपेश्वर सिंह, पत्नी उर्मिला देवी और पुत्री काजल कुमारी चीखने चिल्लाने लगे परंतु बाहर से किसी ने दरवाजा नहीं खोला। इसके बाद आसपास के ग्रामीणों ने इस बात की सूचना मनिका थाना पुलिस को दी।

घटना की सूचना मिलते ही थाना प्रभारी शुभम कुमार, एसआई गौतम कुमार, सुरेश सिंह, भोला यादव समेत कई पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे और दरवाजा खोलकर अंदर बंद तीनों को सुरक्षित बाहर निकाला। पुलिस की सक्रियता से तीन लोगों की जान बच गई।

देखें वीडियो :-

इसके बाद पुलिस ने घर में लगी आग बुझाना शुरू किया परंतु आग की लपटें इतनी तेज हो गई कि काफी मसक्कत के बाद भी आग पर काबू नहीं पाया गया। बाद में फायर बिग्रेड को सूचना दी गयी। लेकिन फायर बिग्रेड के पहुंचने से पहले ही पूरा घर जलकर खाक हो गया था।

क्या है मामला

आपको बता दें कि गणेश सिंह और नटाई सिंह आपस में रिश्तेदार हैं। जिनके बीच किसी जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। हालांकि मामला थाने तक पहुंच गया था। इसी बीच रविवार से लापता गणेश सिंह का बेटा किरण सिंह (22) का शव सोमवार की सुबह गांव के अहिलडेगवा पुल के पास संदिग्ध हालत में मिला।

बताया जाता है कि रविवार की सुबह छह बजे गणेश सिंह का पुत्र किरानी सिंह घर से निकला था। जो देर रात तक घर नहीं लौटा था। परिजनों द्वारा आसपास तलाश करने के बावजूद रात उसका कुछ पता नहीं चल सका। सुबह करीब पांच बजे अहिलडेगावा पुल के पास किरानी का शव संदिग्ध हालत में मिला।

पलाश के पेड़ का फंदा टूटा हुआ था और लाश पेड़ के नीचे पड़ी थी। गणेश ने अपने बेटे का शव देखा तो नाराज होकर घर पहुंचे और नताई सिंह के घर में आग लगा दी। गणेश ने नटाई सिंह, कामेश्वर सिंह, तपेश्वर सिंह और कालेश्वर सिंह, कामेश्वर सिंह पर ह्त्या आरोप लगाया है।

इस संबंध में थाना प्रभारी शुभम कुमार ने बताया कि प्रथम दृष्टया आत्महत्या प्रतीत होता है। वैसे शव को पोस्मार्टम के लिए सदर अस्पताल भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि घर में लोगों को बंद कर आग लगाने की घटना निंदनीय है। आग लगाने वाले किसी भी हालत में बख्शे नहीं जाएंगे।

लोगों से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि इस तरह की घटना की सूचना तुरंत पुलिस को दें और क़ानून का सहारा लें।

समाचार लिखे जाने तक किसी भी पक्ष ने मनिका थाने में घटना से संबंधित कोई लिखित शिकायत नहीं दी है।

Manika News Mob Lynching


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *