Breaking :
||लातेहार: लापरवाह वाहन चालक हो जायें सावधान! कल से पुलिस चलायेगी जिलेभर में सघन वाहन चेकिंग अभियान||झारखंड की नाबालिग लड़की के साथ अमानवीय व्यवहार करने वालों के खिलाफ मुख्यमंत्री ने दिये सख्त कार्रवाई के आदेश||लातेहार: बालूमाथ में ट्यूशन पढ़ाकर घर लौट रहे शिक्षक की सड़क दुर्घटना में मौत||हेमंत सरकार ने खिलाड़ियों के सर्वांगीण विकास को लेकर की जोहार खिलाड़ी स्पोर्ट्स इंटीग्रेटेड पोर्टल की शुरुआत, खिलाड़ियों की समस्याओं के निराकरण में होगा सहायक||रामगढ़, चतरा व लातेहार में कोयला कारोबारियों पर जानलेवा हमला करने वाले TSPC के चार उग्रवादी गिरफ्तार, एक लातेहार का||अब राज्य के सरकारी शिक्षकों को ‘लीव मैनेजमेंट मॉड्यूल’ के माध्यम से ही मिलेगी छुट्टी, अन्य माध्यमों से दिये गये आवेदन होंगे रद्द||लातेहार: बालूमाथ में हुई विवाहिता हत्याकांड का खुलासा, चार अभियुक्तों ने मिलकर की थी बेरहमी से हत्या||पलामू: शहर में बिना अनुमति के जुलूस निकालने पर होगी कार्रवाई, रात 10 बजे के बाद डीजे बजाने पर रोक||लातेहार: मवेशियों से लदा ट्रक दुर्घटनाग्रस्त, ग्रामीणों ने एक तस्कर को पकड़ कर किया पुलिस के हवाले, डाल्टनगंज से खरीद कर रांची के मांस कारोबारी को जा रहे थे पहुंचाने||प्रेमिका से वीडियो कॉल पर बात करते प्रेमी ने दे दी जान

खाद में मिलावट व कालाबाजारी करने वालो की खैर नहीं, खाद व बीज की दुकानों में हो रही जांच

गुमला : खाद में मिलावट व कालाबाजारी का मामला सामने आने के बाद अब जिला कृषि कार्यालय जिले के सभी प्रखंडों में उर्वरक विक्रेताओं के प्रतिष्ठानों व उर्वरकों की जांच कर रहा है। उर्वरक प्रतिष्ठानों और उर्वरकों की जांच के लिए एक जांच दल का गठन किया गया है।

जांच दल में भूमि संरक्षण पदाधिकारी सह अनुमंडल कृषि पदाधिकारी शिवपूजन राम, सहायक जिला कृषि कार्यालय के सहायक रंजीत शर्मा, जयशंकर महतो, शीतल सुधांशु मिंज, एनएफएसएम गुमला के तकनीकी सहायक, अजीत कुमार, आत्म के उप परियोजना निदेशक और राष्ट्रीय तकनीकी के अधिकारी शामिल थे। बागवानी मिशन गुमला। सहायक विश्वदीपक सिंह शामिल हैं। गुमला के सभी प्रखंडों के प्रखंड कृषि पदाधिकारी
एव प्रखंड तकनीकी प्रबंधकों को भी अपने-अपने प्रखंडों में जांच के लिए नियुक्त किया गया है.

जांच के लिए बनी सात सदस्यीय टीम

डीएओ अशोक कुमार सिन्हा ने बताया कि गुमला में खाद में मिलावट और कालाबाजारी का मामला सामने आने के बाद कृषि विभाग किसानों को ठगने से बचाने के लिए अभियान की तरह काम किया जा रहा है। मिलावटी खाद या नकली बीज के कारण किसानों का कृषि कार्य प्रभावित होता है। सबसे बड़ी बात यह है कि इससे किसानों की आर्थिक हानि होती है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

डीएओ ने कहा कि यदि गुमला में मिलावटी खाद की बिक्री और कालाबाजारी हो रही है तो संभावना है कि जिले की अन्य खाद-बीज की दुकानों में भी यह घोटाला चल रहा है। इसलिए जिले के सभी प्रखंडों की खाद-बीज की दुकानों और खाद की जांच की जा रही है।

जांच करने के लिए जिला स्तर पर सात सदस्यीय टीम का गठन किया गया है। इसके अलावा सभी प्रखंडों के प्रखंड कृषि पदाधिकारी और प्रखंड तकनीकी प्रबंधक भी जांच कार्य में लगे हुए हैं। सभी पदाधिकारीयो को उर्वरक विक्रेताओं की जांच करने के साथ ही खाद और बीज के नमूने लेने के निर्देश दिए गए हैं। विशेष रूप से नवरत्न, पारस और इफको कंपनी के डीएपी और एनपीके के नमूने एकत्र करने के निर्देश दिए गए हैं।