Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

लातेहार किड्जी प्री स्कूल में महिषासुरमर्दिनी गतिविधि का आयोजन, बच्चों ने प्रस्तुत की मां दुर्गा के नौ रूपों की आकर्षक झांकी

लातेहार : किड्जी प्री स्कूल में नवरात्रि के पावन अवसर पर महिषासुरमर्दिनी गतिविधि का आयोजन किया गया। इस अवसर पर माता दुर्गा, लक्ष्मी, सरस्वती, राम, लक्ष्मण, सीता, हनुमान, महिषासुर और सिंह के रूप में रंग-बिरंगे पौराणिक परिधानों में सजे बच्चे स्कूल पहुंचे।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस गतिविधि के दौरान बच्चों द्वारा महिषासुरमर्दिनी दृश्य पर आधारित कई झांकियां प्रस्तुत की गयीं। जो बहुत ही मनमोहक था।

कार्यक्रम के दौरान मां दुर्गा के नौ रूपों की आकर्षक झांकी प्रस्तुत की गयी। मां के नौ रूपों में सजे स्कूल की नन्ही बच्चियां बेहद आकर्षक और मनमोहक लग रही थीं। मां के नौ रूपों की विधिवत आरती और पूजा की गयी।

इस दौरान रामायण पर आधारित झांकी भी प्रस्तुत की गयी। जिसमें राम, लक्ष्मण, सीता और हनुमान के वेश में बच्चों ने सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया।

इस मौके पर बच्चों को संबोधित करते हुए किड्जी सेंटर हेड नवीन कुमार मिश्रा ने कहा कि महिषासुरमर्दिनी के नाम से मशहूर मां दुर्गा ने महिषासुर राक्षस का वध कर दुनिया की रक्षा की थी।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उन्होंने कहा कि विजयादशमी सिर्फ एक त्योहार नहीं है, बल्कि यह झूठ पर सच्चाई की, साहस की, निस्वार्थ मदद की और दोस्ती की जीत का प्रतीक है। दशहरे के दिन रावण के प्रतीकात्मक रूप को यह समझाने के लिए जलाया जाता है कि बुराई पर हमेशा अच्छाई की जीत होती है।

कार्यक्रम के सफल आयोजन में शिक्षिका पूजा कुमारी, अलका शर्मा, प्रियंका प्रियदर्शी, निहारिका सिंह, अटेंडेंट सुमिता, सुचिता, गार्ड प्रिया, वैन चालक नकुल, मेड सुमित्रा की सहभागिता सराहनीय रही।