Breaking :
||लातेहार: बूढ़ा पहाड़ इलाके में नक्सलियों द्वारा छिपाये गये अत्याधुनिक हथियार व अन्य सामान बरामद||रांची हिंसा मामले में डीसी ने 11 आरोपियों पर मुकदमा चलाने की मांगी अनुमति||धनबाद आशीर्वाद टावर फायर मामले में हाई कोर्ट ने लिया स्वत: संज्ञान, सरकार से पूछा- अबतक क्या की गयी कार्रवाई||चाईबासा: IED ब्लास्ट में एक बार फिर तीन जवान घायल, एयरलिफ्ट कर लाया गया रांची||लातेहार: बालूमाथ में सड़क हादसे में घायल युवक की इलाज के दौरान मौत, 17 फरवरी को होनी थी शादी||तैयारी में जुटे छात्र ध्यान दें: झारखंड कर्मचारी चयन आयोग ने एक दर्जन प्रतियोगी परीक्षाओं के विज्ञापन किये रद्द||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन

लातेहार : शंटिग के दौरान मालगाड़ी का इंजन हुआ बेपटरी

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार – बरवाडीह रेलवे स्टेशन से कुछ दूरी में स्थित 16 सी व 17 सी गेट के पोल संख्या 250/20 के पास लापरवाही का मामला सामने आया है।

बरकाकाना-बरवाडीह रेलखंड के टोरी चेतर स्टेशन के बीच गुरुवार देर रात पोल संख्या 193 /13 के पास तकनीकी खराबी के कारण बरवाडीह की ओर आ रही कोयले से लदी मालगाड़ी के एक वैगन आर गाड़ी मालगाड़ी से अलग हो गया। इस घटना के एक दिन बाद ही एक बार फिर यहां भी शंटिग के दौरान इंजन पटरी से नीचे उतर गया। इस घटना से रेलवे में हड़कंप की स्थिति मच गई। तत्काल रेलवे कंट्रोल रूम को सूचित किया गया। काफी देर तक हड़कंप की स्थिति मची रही। बाद में अधिकारियों के पहुंचने पर मामला शांत हुआ।

रात में हुआ हादसा

सूत्रों के अनुसार देर रात बरवाडीह स्टेशन की साइडिंग में शंटिंग की जा रही थी तभी रात करीब 3.30 बजे के दौरान एक इंजन के दो पहिए पटरी से नीचे उतर गए। इस घटना में किसी भी प्रकार का रेल यातयात प्रभावित नहीं हुआ है। किंतु इंजन को पटरी पर लाने के लिए दुर्घटना राहत वाहन एवं इंजीनियिरिंग विभाग के कर्मचारियों को खासी मशक्कत करनी पड़ी। रेल प्रशासन इस मामले की जांच करा रहा है कि इसमें किसकी लापरवाही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

जानकारी के अनुसार उक्त स्थल पर रैक को इंजन से जोड़ा जा रहा था। जानकारों का कहना है कि शंटर के पास शंटिग के लिए आवश्यक संसाधन नहीं थे। जबकि इस कार्य के लिए रेलवे ने सर्च लाइट और सीटी होना आवश्यक किया है। इनके अभाव में की जा रही शंटिग से उक्त घटना हुई। इसमें शंटिंग कर्मियों और लोकोपायलट के बीच आपसी तालमेल की कमी, लापरवाही बताई जा रही है।