Breaking :
||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री||JPSC पीटी के मॉडल आंसर को चुनौती देने वाली याचिका हाईकोर्ट में खारिज, परीक्षा का रास्ता साफ||लातेहार: सेरेगड़ा पंचायत सेवक अर्जुन राम रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||झारखंड में चार DSP की ट्रांसफर-पोस्टिंग, समीर कुमार सवैया बने किस्को के DSP||झारखंड कैबिनेट का फैसला, सरकार करायेगी जातिगत गणना, विधायकों का वेतन भत्ता बढ़ा, रिटायर्ड कर्मचारियों को भी मिलेगी प्रमोशन||झारखंड को नशामुक्त राज्य बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध, हर किसी की सहभागिता जरूरी : मुख्यमंत्री||वन भूमि से कब्जा हटाने गयी टीम पर ग्रामीणों का हमला, पत्थरबाजी में वन क्षेत्र पदाधिकारी समेत एक दर्जन घायल||झारखंड में इस तारीख को मानसून की एंट्री, बारिश और वज्रपात का अलर्ट||लातेहार: दो बाइकों की टक्कर में मामा-भांजा समेत चार घायल समेत बालूमाथ की दो खबरें||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, जांच में जुटी पुलिस
Friday, June 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडलबरवाडीहलातेहार

लातेहार : शंटिग के दौरान मालगाड़ी का इंजन हुआ बेपटरी

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार – बरवाडीह रेलवे स्टेशन से कुछ दूरी में स्थित 16 सी व 17 सी गेट के पोल संख्या 250/20 के पास लापरवाही का मामला सामने आया है।

बरकाकाना-बरवाडीह रेलखंड के टोरी चेतर स्टेशन के बीच गुरुवार देर रात पोल संख्या 193 /13 के पास तकनीकी खराबी के कारण बरवाडीह की ओर आ रही कोयले से लदी मालगाड़ी के एक वैगन आर गाड़ी मालगाड़ी से अलग हो गया। इस घटना के एक दिन बाद ही एक बार फिर यहां भी शंटिग के दौरान इंजन पटरी से नीचे उतर गया। इस घटना से रेलवे में हड़कंप की स्थिति मच गई। तत्काल रेलवे कंट्रोल रूम को सूचित किया गया। काफी देर तक हड़कंप की स्थिति मची रही। बाद में अधिकारियों के पहुंचने पर मामला शांत हुआ।

रात में हुआ हादसा

सूत्रों के अनुसार देर रात बरवाडीह स्टेशन की साइडिंग में शंटिंग की जा रही थी तभी रात करीब 3.30 बजे के दौरान एक इंजन के दो पहिए पटरी से नीचे उतर गए। इस घटना में किसी भी प्रकार का रेल यातयात प्रभावित नहीं हुआ है। किंतु इंजन को पटरी पर लाने के लिए दुर्घटना राहत वाहन एवं इंजीनियिरिंग विभाग के कर्मचारियों को खासी मशक्कत करनी पड़ी। रेल प्रशासन इस मामले की जांच करा रहा है कि इसमें किसकी लापरवाही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

जानकारी के अनुसार उक्त स्थल पर रैक को इंजन से जोड़ा जा रहा था। जानकारों का कहना है कि शंटर के पास शंटिग के लिए आवश्यक संसाधन नहीं थे। जबकि इस कार्य के लिए रेलवे ने सर्च लाइट और सीटी होना आवश्यक किया है। इनके अभाव में की जा रही शंटिग से उक्त घटना हुई। इसमें शंटिंग कर्मियों और लोकोपायलट के बीच आपसी तालमेल की कमी, लापरवाही बताई जा रही है।