Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

लातेहार: चांद का हुआ दीदार, कल से माह-ए-रमजान शुरू

लातेहार : रमजान के पवित्र महीने की तैयारियों को अंतिम रूप देने में मुस्लिम धर्मावलंबी जुटे हुए हैं। आज रमजान के महीने का चांद नजर आया। रविवार से रोजा शुरू हो जाएगा। यह रोजा पूरे एक माह तक चलेगा। आस्था, निष्ठा और पवित्रता का यह पर्व बहुत ही महत्वपूर्ण है। रमजान को लेकर लोगों में खासा उत्साह है।

तरावीह को लेकर खास तैयारी की जा रही है। शहर की सभी मस्जिदों में तरावीह होगी। इसके अलावा 10 से 15 अन्य जगहों पर भी इसका आयोजन किया जाएगा। इफ्तार और सेहरी को लेकर बाजार में फलों की दुकानें सजने लगी हैं। इस बार रमजान का पूरा महीना भीषण गर्मी में बीतेगा। गर्मी को देखते हुए खान-पान का खास ख्याल रखा जा रहा है।

इसे भी पढ़ें :- नक्सलियों की अब खैर नहीं ! सैटेलाइट ट्रैकर का होगा इस्तेमाल, बड़े ऑपरेशन की तैयारी

चौदह से पंद्रह घंटे का निर्जल व्रत बहुत कठिन होता है। लेकिन फिर भी लोगों में खुशी का माहौल है। रमजान का महीना रहमत और बरकत का है। यही कारण है कि मुस्लिम धर्मावलंबी पूरा महीना इबादत में बिताते हैं। पांच वक्ता नमाज के साथ कसरत के जरिए कुरान का पाठ करते हैं।

रमजान के इस महीने को तीन हिस्सों में बांटा गया है। यानी एक से दस दिन तक रहमत का अशरा होता है, ग्यारह से बीस तक बरकत का अशरा होता है, और इक्कीस से तीस तक मगफिरत का अशरा होता है। रमजान में नमाज का बहुत महत्व होता है। यही वजह है कि लोग इबादत के साथ जकात भी निकालते हैं। जकात का अर्थ है जमा पूंजी का दो या ढाई प्रतिशत गरीबों में दान करना।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

लातेहार रमजान शुरू