Breaking :
||झारखंड में मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की तिथि घोषित, जानिये…||लातेहार: अज्ञात अपराधियों ने नावागढ़ गांव में की गोलीबारी, पुलिस कर रही जांच||धनबाद आशीर्वाद टावर अग्निकांड: दीये की लौ ने लिया शोला का रूप, 10 महिलाओं समेत 16 ज़िंदा जले||31 जनवरी से सात फरवरी तक आम लोगों के लिए खुला राजभवन गार्डन||हेमंत ने जमशेदपुर वासियों को दी सौगात, जुगसलाई ओवरब्रिज का किया उद्घाटन||जमशेदपुर-कोलकाता विमान सेवा का शुभारंभ, मुख्यमंत्री ने कहा- सभी जिलों को हवाई सेवा से जोड़ने की तैयार की जा रही कार्ययोजना||पलामू में हल्का कर्मचारी रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार||पाकुड़: मूर्ति विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने जुलूस पर किया पथराव||हजारीबाग: पुआल में लगी आग, दो मासूम बच्चे जिंदा जले, पुलिस जांच में जुटी||चाईबासा: PLFI के तीन उग्रवादी गिरफ्तार, AK-47 समेत अन्य हथियार बरामद

लातेहार: जमीन विवाद को लेकर दो पक्षों में मारपीट, दो गंभीर रूप से घायल

विक्रम कुमार/लातेहार

लातेहार : सदर थाना क्षेत्र के नेवाड़ी पंचायत के ओबेर गांव में सोमवार सुबह जमीन विवाद को लेकर दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई। जिसमें निर्मला कुमारी 15 साल सुशीला कुमारी 14 साल गंभीर रूप से घायल हो गईं। कुछ लोगों को अंदरूनी चोटें आई हैं।

वही भुक्तभोगी ने बताया कि मेरे गोतिया मंगल देव भुइयां पिता अधीन भुइयां, सकलदेव भुइयां पिता अधीन भुइयां, दशरथ भुइयां पिता अधीन भुइयां, मनोज भुइयां पिता फूलदेव भुइयां, विनोद भुइयां पिता बलदेव भुइया, रविंदर भुइयां पिता बलदेव भुइया, अखिलेश भुइया पिता बलदेव भुइयां, मंटू भुइया पिता बुधराम भुइयां, संटू भुइयां पिता बुधराम भुइयां, बीरबल भुइयां पिता सुखदेव भुइयां, सुनील भुइयां पिता सुखदेव भुइयां ये सभी लोग मेरे घर आए और कहने लगे कि जमीन का बंटवारा करो। जबकि पहले से ही पूर्वजों के द्वारा जमीन का बंटवारा कर लिया गया था।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

हम अपने पूर्वजों के बताए रास्ते पर खेती करते रहे हैं। आज इन लोगों के अधिक परिवार होने के कारण ये लोग बंटवारे के नाम पर जबरन हमारी जमीन हड़पना चाहते हैं। हमने इसका विरोध किया तो इन लोगों ने अहंकार दिखाकर हमें लाठियों से पीटना शुरू कर दिया।

बाद में उसे बेहोश कर वहां से फरार हो गया। सदर थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी गयी है। उन्होंने आगे कहा कि जब हम थाने से प्राथमिकी दर्ज कर घर वापस आए तो हमें धमकाया जा रहा था।