Breaking :
||बालूमाथ: शार्ट सर्किट से हाइवा वाहन में लगी आग, जलकर राख||बालूमाथ: महिला का अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर ठगे सात लाख रुपये, गिरफ्तार||बालूमाथ: सरस्वती पूजा को लेकर निकाली गयी शोभायात्रा पर मधुमक्खियों का हमला, मची अफरा-तफरी||लातेहार: बालूमाथ में अवैध कोयला लदा पांच हाइवा जब्त, तीन गिरफ्तार||लातेहार: अब मनिका के डुमरी में दिखा आदमखोर तेंदुआ, गांव में मचा कोहराम, घर में दुबके लोग||लातेहार: किडजी प्री स्कूल में “विद्यारंभ संस्कार” का आयोजन, अभिभावक आमंत्रित||रांची: 10 लाख का इनामी PLFI सब जोनल कमांडर तिलकेश्वर गोप गिरफ्तार||राष्ट्रपति गणतंत्र दिवस पर झारखंड पुलिस के 22 अधिकारियों और कर्मचारियों को करेंगे सम्मानित||आईईडी ब्लास्ट में फिर एक जवान घायल, लाया गया रांची||लातेहार जिले के लिए गौरव भरा पल…राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर राज्यपाल ने डीसी को किया सम्मानित

लातेहार: पावरलिफ्टिंग में 3 काँस्य पदक जीतने वाली अस्मिता को डीसी ने किया सम्मानित

अस्मिता कुमारी लातेहार ने जीता 3 काँस्य पदक

स्थानीय स्तर पर सुविधाएं उपलब्ध कराने का दिया आश्वासन

लातेहार : उपायुक्त अबु इमरान ने वर्ष 2019 में यूनाइटेड अरब अमीरात की राजधानी अबु धाबी में आयोजित स्पेशल ओलम्पिक्स वर्ल्ड समर गेम्स- 2019 में पावरलिफ्टिंग में 3 काँस्य पदक जीतने वाली अस्मिता कुमारी को सम्मानित किया।

उपायुक्त ने कहा अस्मिता कुमारी की उपलब्धि प्रशंसनीय है। उपायुक्त ने अस्मिता की लातेहार वापसी एवं माता-पिता से पुन: मिलने पर ख़ुशी जाहिर की। उन्होंने कहा जिला प्रशासन के द्वारा अस्मिता को प्रशिक्षण के लिए लातेहार में सुविधाएं उपलब्ध करायी जाएगी।

बताते चलें कि अस्मिता कुमारी लातेहार जिले के बालूमाथ प्रखंड के हेमपुर गांव की निवासी है। अस्मिता की एक रिश्तेदार उसको डोमेस्टिक हेल्प के रुप कार्य करने के लिए दिल्ली लेकर गयी थी। जहाँ उसने अस्मिता को छोड़ दिया था।

बौद्धिक डिसेबलिटी की अस्मिता अपने गांव का नाम भी बता पाने में असमर्थ थी। उसे दिल्ली के आशा किरण शेल्टर होम कॉम्प्लेक्स में रखा गया। आशा किरण शेल्टर होम में उसने पावरलिफ्टिंग करना शुरू की। अपनी मेहनत और लगन के बल पर उसे अबु धाबी में आयोजित स्पेशल ओलम्पिक्स वर्ल्ड समर गेम्स- 2019 में पावरलिफ्टिंग में शामिल होने का मौका मिला। जिसमें उसने बेहतरीन प्रदर्शन कर 3 काँस्य पदक जीता।

अस्मिता ने फरवरी 2022 में आशा किरण शेल्टर होम के वेलफेयर ऑफिसर के सामने अपने गांव का नाम लिया। जिसके बाद दिल्ली एवं झारखण्ड सरकार के पदाधिकारियों के संयुक्त प्रयास से अस्मिता को उसके घर भेजा गया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें