Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
लातेहार

लातेहार: पावरलिफ्टिंग में 3 काँस्य पदक जीतने वाली अस्मिता को डीसी ने किया सम्मानित

अस्मिता कुमारी लातेहार ने जीता 3 काँस्य पदक

स्थानीय स्तर पर सुविधाएं उपलब्ध कराने का दिया आश्वासन

लातेहार : उपायुक्त अबु इमरान ने वर्ष 2019 में यूनाइटेड अरब अमीरात की राजधानी अबु धाबी में आयोजित स्पेशल ओलम्पिक्स वर्ल्ड समर गेम्स- 2019 में पावरलिफ्टिंग में 3 काँस्य पदक जीतने वाली अस्मिता कुमारी को सम्मानित किया।

उपायुक्त ने कहा अस्मिता कुमारी की उपलब्धि प्रशंसनीय है। उपायुक्त ने अस्मिता की लातेहार वापसी एवं माता-पिता से पुन: मिलने पर ख़ुशी जाहिर की। उन्होंने कहा जिला प्रशासन के द्वारा अस्मिता को प्रशिक्षण के लिए लातेहार में सुविधाएं उपलब्ध करायी जाएगी।

बताते चलें कि अस्मिता कुमारी लातेहार जिले के बालूमाथ प्रखंड के हेमपुर गांव की निवासी है। अस्मिता की एक रिश्तेदार उसको डोमेस्टिक हेल्प के रुप कार्य करने के लिए दिल्ली लेकर गयी थी। जहाँ उसने अस्मिता को छोड़ दिया था।

बौद्धिक डिसेबलिटी की अस्मिता अपने गांव का नाम भी बता पाने में असमर्थ थी। उसे दिल्ली के आशा किरण शेल्टर होम कॉम्प्लेक्स में रखा गया। आशा किरण शेल्टर होम में उसने पावरलिफ्टिंग करना शुरू की। अपनी मेहनत और लगन के बल पर उसे अबु धाबी में आयोजित स्पेशल ओलम्पिक्स वर्ल्ड समर गेम्स- 2019 में पावरलिफ्टिंग में शामिल होने का मौका मिला। जिसमें उसने बेहतरीन प्रदर्शन कर 3 काँस्य पदक जीता।

अस्मिता ने फरवरी 2022 में आशा किरण शेल्टर होम के वेलफेयर ऑफिसर के सामने अपने गांव का नाम लिया। जिसके बाद दिल्ली एवं झारखण्ड सरकार के पदाधिकारियों के संयुक्त प्रयास से अस्मिता को उसके घर भेजा गया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें