Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

लातेहार: बेतला नेशनल पार्क आज से तीन महीने के लिए पर्यटकों के लिए बंद

लातेहार : वन्यजीवों का प्रजनन काल मानसून के आगमन के साथ शुरू होता है। इस दौरान सुरक्षा और संवर्धन को ध्यान में रखते हुए देशभर के राष्ट्रीय उद्यानों को बंद कर दिया गया है। पलामू टाइगर रिजर्व के अंतर्गत आने वाले बेतला नेशनल पार्क को भी बंद कर दिया गया है। जो 1 जुलाई से 30 सितंबर तक बंद रहेगा। 1 अक्टूबर से पार्क को पर्यटकों के लिए फिर से खोल दिया जाएगा।

मानसून का मौसम वन्यजीवों का प्रजनन काल होता है। इस दौरान उन्हें शांति और सुरक्षा की जरूरत होती है। पार्कों में पर्यटकों की गतिविधियों से वन्यजीव परेशान हो जाते हैं। उनकी शान्ति भंग होती है। इसे देखते हुए पार्क 3 महीने के लिए बंद कर दिए गए हैं।

बेतला नेशनल पार्क 56 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। यह झारखंड का एकमात्र टाइगर रिजर्व है। यहां बाघ देखने के इच्छुक झारखंड के पर्यटकों के लिए एकमात्र नेशनल पार्क है। हालांकि पार्क में बाघ की उपस्थिति को लेकर विरोधाभास है। बाघों की पिछली गणना में यहां एक भी बाघ नहीं मिले थे।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बेतला राष्ट्रीय उद्यान 56 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह झारखंड का एकमात्र टाइगर रिजर्व है। यह झारखंड के पर्यटकों के लिए एकमात्र राष्ट्रीय उद्यान है, जो बाघों को देखना चाहते हैं। हालांकि, पार्क में बाघों की मौजूदगी को लेकर विरोधाभास है। बाघों की आखिरी गिनती में यहां एक भी बाघ नहीं मिला था।