Breaking :
||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश
Tuesday, May 21, 2024
लातेहार

लातेहार: बेतला नेशनल पार्क आज से तीन महीने के लिए पर्यटकों के लिए बंद

लातेहार : वन्यजीवों का प्रजनन काल मानसून के आगमन के साथ शुरू होता है। इस दौरान सुरक्षा और संवर्धन को ध्यान में रखते हुए देशभर के राष्ट्रीय उद्यानों को बंद कर दिया गया है। पलामू टाइगर रिजर्व के अंतर्गत आने वाले बेतला नेशनल पार्क को भी बंद कर दिया गया है। जो 1 जुलाई से 30 सितंबर तक बंद रहेगा। 1 अक्टूबर से पार्क को पर्यटकों के लिए फिर से खोल दिया जाएगा।

मानसून का मौसम वन्यजीवों का प्रजनन काल होता है। इस दौरान उन्हें शांति और सुरक्षा की जरूरत होती है। पार्कों में पर्यटकों की गतिविधियों से वन्यजीव परेशान हो जाते हैं। उनकी शान्ति भंग होती है। इसे देखते हुए पार्क 3 महीने के लिए बंद कर दिए गए हैं।

बेतला नेशनल पार्क 56 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है। यह झारखंड का एकमात्र टाइगर रिजर्व है। यहां बाघ देखने के इच्छुक झारखंड के पर्यटकों के लिए एकमात्र नेशनल पार्क है। हालांकि पार्क में बाघ की उपस्थिति को लेकर विरोधाभास है। बाघों की पिछली गणना में यहां एक भी बाघ नहीं मिले थे।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बेतला राष्ट्रीय उद्यान 56 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह झारखंड का एकमात्र टाइगर रिजर्व है। यह झारखंड के पर्यटकों के लिए एकमात्र राष्ट्रीय उद्यान है, जो बाघों को देखना चाहते हैं। हालांकि, पार्क में बाघों की मौजूदगी को लेकर विरोधाभास है। बाघों की आखिरी गिनती में यहां एक भी बाघ नहीं मिला था।