Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

झामुमो नेता दिलशेर खान हत्याकांड की सीबीआई से हो जांच : समसुल खान

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : बालूमाथ थाना क्षेत्र के कुसमाही कोल साइडिंग में 24 अप्रैल 2022 को आंधाधुन गोली चला कर अपराधियों द्वारा झामुमो नेता मरहूम दिलशेर खान की निर्मम हत्या कर दी गई थी। जिसके बाद जिले के पुलिस अधीक्षक अंजनी अंजन के द्वारा एसआईटी टीम गठित कर कार्रवाई करते हुए हत्या में शामिल लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।

दिलशेर खान के परिजन

लेकिन पीड़ित परिजन पुलिस प्रशासन के अबतक कार्रवाई से पूरी संतुष्ट नहीं है। इसी कड़ी में पीड़ित परिजनों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर राज्य सरकार से पूरे मामले को लेकर सीबीआई जांच कराने की मांग करते हुए मुआवजा के रूप में 50 लाख रुपया और दो परिजन को नौकरी देने की मांग की है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मरहूम दिलशेर खान के पिता प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताते हैं कि मुझे आज भी ऐसा लगता है कि असल कातिल पुलिस की गिरफ्त से अभी भी कोसों दूर है। आखिर मेरे पुत्र को किसके इशारे में हत्या की गई? वह कौन है? मेरे पुत्र का असली कातिल आखिर किस कारण से मेरे पुत्र की हत्या की गई? मेरे पुत्र की हत्या के जिम्मेवारी लेने से क्यों कोई मुंह मोड़ ले रहा है? ऐसे कई सवाल पत्रकार के समक्ष रखा।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

उन्होंने आगे कहा कि स्थानीय प्रशासन पूरे परिजन को सुरक्षा दे नहीं तो मुझे अंदेशा है कि कभी भी कोई अनहोनी घटना मेरे और मेरे परिवार के साथ हो सकती है। मरहूम के पिता का यह भी कहना था कि अगर इस हत्याकांड का सरकार सीबीआई जांच करा देती है तो कई चौंकाने तथ्य सामने आ आते।

वहीं चौंकाने वाली बात तो यह है कि हत्या के 50 दिन बीत जाने के बाद भी अबतक पीड़ित परिवार को राज्य सरकार या जिला प्रशासन के द्वारा किसी भी तरह का मुआवजा या लाभ नहीं दिया गया है।