Breaking :
||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश||पलामू: हार्डकोर इनामी माओवादी नीतेश के दस्ते का सक्रिय सदस्य गिरफ्तार||लातेहार: 65 हेली ड्रॉपिंग बूथ के लिए शुभकामनायें लेकर मतदान कर्मी रवाना
Monday, May 20, 2024
मनिकालातेहार

मनिका: एंबुलेंस के अभाव में रात भर दर्द से तड़पता रहा आदिम जनजाति परिवार का बच्चा, दुर्व्यवहार का आरोप

कौशल किशोर पांडेय/मनिका

परिजनों ने 108 एंबुलेंस कर्मी पर लगाया दुर्व्यवहार का आरोप

लातेहार : मनिका प्रखंड के रांकीकला पंचायत के उच्चवाबाल गांव के आदिम जनजाति परिवार के राजकुमार परहिया 4 वर्ष पिता जैतून परहिया एंबुलेंस के अभाव में रात भर अस्पताल में दर्द से तड़पता रहा।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

राजकुमार परहिया के पिता ने बताया कि शनिवार की शाम 6:00 बजे मेरी बेटे का पैर टूट गया। जिसके बाद ग्रामीणों की सहायता से 108 एंबुलेंस को गांव में बुलाया। जिसके बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मनिका इलाज के लिए लाया। जहां डॉक्टर के द्वारा प्राथमिक उपचार के बाद सदर अस्पताल डाल्टनगंज (पलामू) रेफर कर दिया गया।

इसके बाद पुनः 108 सर्विस सेवा पर108 एंबुलेंस के लिए कॉल किया। लेकिन एंबुलेंस उपलब्ध नहीं हो पाया। 108 कॉल सेंटर से यह कहा गया कि जो गाड़ी लगी हुई है। उसका नंबर बताईये। जब मनिका प्रखंड कार्यालय परिसर में लगे एंबुलेंस का नंबर लेने गया तो 108 एंबुलेंस के कर्मियों ने मेरे साथ दुर्व्यवहार किया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

एंबुलेंस कर्मियों ने कहा कि जहां मन करेगा हम गाड़ी वहीं ले जाएंगे। अभी नहीं जाएंगे गाड़ी खराब है। ज्यादा बोलेगा तो केस कर देंगे। जबकि मनिका अस्पताल में एक एंबुलेंस उपलब्ध है।

इस तरह बच्चे को डाल्टनगंज ले जाने के लिए एम्बुलेंस उपलब्ध नहीं हो सका। आदिम जनजाति परिवार के लोगों के पास पैसा नहीं रहने के कारण हॉस्पिटल में रहे एंबुलेंस का उपयोग नहीं कर सके। चुकी हॉस्पिटल का एंबुलेंस का उपयोग करने में मरीज के परिजनों को तेल की व्यवस्था करनी पड़ती है।