Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

झारखंड स्थापना दिवस पर गारू में भारी लापरवाही, कहीं पंचायत प्रतिनिधि को आमंत्रण नहीं तो कहीं भगवान बिरसा मुंडा की अनदेखी

गोपी कुमार सिंह/गारू

लातेहार : ज़िले के गारू प्रखंड से राज्य स्थापना दिवस के मौके पर भारी लापरवाही सामने आई है। यहां राज्य स्थापना दिवस और भगवान बिरसा मुंडा की जयंती पर धांगरटोला पंचायत भवन में आयोजित कंबल वितरण समारोह में पंचायत समिति सदस्य बरखा कुमारी को आमंत्रित नही करने पर उन्होंने कड़ी आपत्ति जतायी है।

धांगरटोला पंचायत भवन में आयोजित कार्यक्रम में शामिल अधिकारी एवं प्रतिनिधि

उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों पर घोर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि लगातार इस तरह का प्रकरण होते आ रहा है। इससे पहले भी आयोजित हुए कई कार्यक्रमों में पंचायत समिति सदस्य को आमंत्रित नही किया गया है। आज राज्य स्थापना दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में पंचायत समिति सदस्य को आमंत्रित नही करना घोर लापरवाही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने कहा पंचायत प्रतिनिधियों की मंशा कुछ ठीक नही है। यही कारण है कि कार्यक्रमों में आमंत्रित नही किया जा रहा है। उन्होंने बरवाडीह प्रखंड का उदाहरण देते हुए कहा वहां के कम्बल वितरण कार्यक्रम में तमाम प्रतिनिधियों को आमंत्रित किया गया था। लेकिन यहां के कार्यक्रम में कई प्रतिनिधियों को नजरअंदाज किया गया है।

उन्होंने किसी के नाम का जिक्र नही करते हुए कहा कुछ लोग अपनी मनमानी कर रहे हैं। उन्होंने प्रखंड प्रशासन से मांग की है कि कार्यक्रमों में तमाम प्रतिनिधियो को आमंत्रित किया जाए और आपसी समन्वय बनाकर प्रखंड और पंचायत के विकास के लिए कार्य किया जाए।

कारवाई पंचायत भवन में आयोजित कार्यक्रम स्थल जहाँ नही दिखी भगवान बिरसा मुंडा की तस्वीर

कार्यक्रम में नही दिखा भगवान बिरसा मुंडा का चित्र

इधर, प्रखंड मुख्यालय के कारवाई पंचायत भवन से भी भारी लापरवाही का मामला सामने आया है। यहां कारवाई पंचायत भवन में आयोजित कम्बल वितरण समारोह कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। लेकिन कार्यक्रम स्थल पर कही भी भगवान बिरसा मुंडा की तस्वीर नही लगी थी। लिहाजा बिना उन्हें याद और नमन किये कार्यक्रम का समापन कर दिया गया। कार्यक्रम में शामिल ग्रामीणों को भगवान बिरसा मुंडा के जीवनी के विषय मे जानकारी तक नहीं दी गयी।

गौरतलब हो कि गारू प्रखंड अतिपिछड़ा क्षेत्र माना जाता है। पिछड़ा इलाका होने के साथ-साथ बहुत लोग अशिक्षित भी हैं। जिन्हें बिरसा मुंडा के विषय मे जानकारी देनी चाहिए थी। ताकि वह भी वीर शहीद बिरसा मुंडा को समझ पाते और लोगों से इस विषय पर चर्चा करते। लेकिन कार्यक्रम स्थल पर पंचायत प्रतिनिधियों के द्वारा वीर शहीद बिरसा मुंडा की तस्वीर न लगाकर उन्हें नजरअंदाज करने की घोर लापरवाही बरती गयी है।

भगवान् की तस्वीर पर माल्यार्पण किये बगैर कार्यक्रम की शुरुआत घोर लापरवाही

जिसे लेकर पंचायत समिति सदस्य बरखा कुमारी ने भी आपत्ति जतायी है। कहा इस तरह वीर योद्धा को बिना माल्यापर्ण और उन्हें याद किये बिना कार्यक्रम की शुरुआत करना भारी लापरवाही नजर आती है। उन्होंने कहा पंचायत स्तरीय कार्यक्रम में इतनी भी चूक से ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि पंचायत प्रतिनिधि अपने कार्यों को लेकर कितने जवाबदेह हैं।

आक्रोश जताते ग्रामीण

ग्रामीणों को नहीं मिला कम्बल

यहां आयोजित कार्यक्रम में ग्रामीणों ने भी ख़ूब बवाल किया। कम्बल वितरण समारोह में कई ग्रामीणों को कम्बल का लाभ नही मिल पाया। लिहाज़ ग्रामीणों ने यहां घंटों तक बवाल किया। बता दे कि कारवाई पंचायत क्षेत्र के ग्रामीणों के लिए महज़ 99 कम्बल ही मुहैय्या कराया गया था। जबकि कम्बल वितरण समारोह कार्यक्रम में लगभग डेढ़ सौ ग्रामीण पहुच गये थे। जिनमें से कई ग्रामीणों को कंबल का लाभ नही मिल पाया, लिहाज़ आक्रोशित ग्रामीणों ने बवाल किया। हालांकि पंचायत प्रतिनिधियों के द्वारा अगले बार कम्बल देने का आश्वाशन देकर आक्रोशित ग्रामीणों को शांत कराया गया। मौके पर पंचायत के मुखिया सुनेश्वर सिंह, पंचायत सेवक सतेन्द्र प्रसाद सिंह, उपमुखिया प्रकाश बख़ला समेत कई अन्य लोग मौजूद थे।