Breaking :
||बड़ा रेल हादसा: शालीमार से चेन्नई जा रही कोरोमंडल एक्सप्रेस दुर्घटनाग्रस्त, 50 यात्रियों की मौत, 350 से अधिक घायल||पलामू: सतबरवा SBI शाखा में महिला से रुपये उड़ाने वाले संदिग्ध अपराधियों की तस्वीर आयी सामने, सहयोग की अपील||गुमला: मुठभेड़ में मारा गया 2 लाख का इनामी माओवादी एरिया कमांडर लाजिम अंसारी||लातेहार: बालूमाथ में यात्री बस डिवाइडर से टकराकर दुर्घटनाग्रस्त, महिला समेत दो की मौत||JOB: लातेहार जिले में विशेष भर्ती कैंप का आयोजन, 450 पदों पर प्रशिक्षण के बाद होगी सीधी नियुक्ति||गुमला: शादी समारोह में शामिल होने आयी नाबालिग छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म||लातेहार: चंदवा में फंदे से लटका मिला नवविवाहित जोड़े का शव, एक माह पहले किया था प्रेम विवाह, दो दिन पहले प्रेमी के भाई ने भी कर ली थी ख़ुदकुशी||पलामू: पेड़ से लटका मिला नवविवाहित का शव, दो माह पहले किया था अंतर्जातीय प्रेम विवाह, लातेहार में है मायका||गुमला: सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में मारा गया दो लाख का इनामी माओवादी राजेश उरांव||पलामू : सतबरवा SBI शाखा में पैसे जमा कराने आयी महिला से अपराधियों ने उड़ाए 84 हजार रुपये, घटना सीसीटीवी में कैद

सरकार आपके द्वार कार्यक्रम का मीडियाकर्मियों ने किया बहिष्कार, प्रशासनिक लापरवाही से पत्रकारों में रोष

गोपी कुमार सिंह/गारू

लातेहार : ज़िले के गारू से प्रशासनिक लापरवाही का मामला सामने आया है। यहां प्रखंड प्रशासन के अमानवीय रवैये के कारण आंचलिक पत्रकारों ने निंदा करते हुए अगले सभी कार्यक्रम का बहिष्कार करते हुए समाचार संकलन नहीं करने का निर्णय लिया है।

kidzee ad

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

आपको जानकारी देते चले कि गारू प्रखंड विकास पदाधिकारी तथा अंचलाधिकारी नें पत्र के माध्यम से पत्रकारों को सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में आमंत्रित किया था। इसके बावजूद समाचार संकलन करने पहुँचे पत्रकारों की अनदेखी की गयी थी। पत्रकारों नें बताया कि शिविर में उनके लिए बैठने तक की व्यवस्था नहीं की गयी थी। प्रखंड प्रशासन तथा कर्मचारियों नें कार्यक्रम में उपस्थित पत्रकारों को नजरअंदाज करते हुए पेयजल का भी व्यवस्था नहीं दिया। नाराज पत्रकारों ने पत्रकार-प्रशासन व्हाट्सप्प समूह में इस मामले की बात रखी थी। बावजूद प्रशासन ने इसपर गंभीरता नही दिखायी और न ही कोई प्रतिक्रिया दी।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

चर्चा है कि बीडीओ तथा सीओ ने शिविर में आमंत्रित करके पत्रकारों के आत्मसम्मान पर आघात किया है। प्रखंड विकास पदाधिकारी तथा अंचलाधिकारी का बयान सामने नहीं आना इस बात का प्रमाण है। इधर कारवाई पंचायत भवन में आयोजित शिविर में कई महिलाएं एवं बच्चे जमीन पर बैठे हुए नजर आए। इसके बाद से प्रखंड प्रशासन पर कई तरह के सवाल उठने लगे है।

प्रशासनिक लापरवाही से मीडियाकर्मियों में आक्रोश, शिविर का किया बहिष्कार

इधर, सोमवार को झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन के प्रखंड अध्यक्ष कृष्णा प्रसाद के साथ सभी पत्रकारों नें उपर्युक्त विषय पर चर्चा की। पत्रकारों की सर्वम्मति से यह निर्णय लिया गया कि प्रशासन द्वारा आयोजित तमाम कार्यक्रम का बहिष्कार करेंगे। पत्रकार पारस यादव, रंजीत प्रसाद, आलोक सिंह, गोपी सिंह, चंचल कुमार सिंह, पिंटू नें कहा पत्रकारों के लिए आत्मसम्मान सर्वोपरि है। आंचलिक पत्रकार कड़ी धुप, बरसात से लेकर कपकपाती ठंड में समाचार संकलन कर जनता और प्रशासन के बीच सामंजस्य स्थापित करते हैं। वहीं प्रशासनिक कार्यक्रम में आमंत्रित कर आत्मसम्मान को ठेस पहुचाना किसी भी प्रकार से स्वीकार्य नहीं है। मौके पर पत्रकार कृष्णा प्रसाद, रंजीत कुमार, गोपी कुमार सिंह, पारस यादव, उमेश यादव, अलोक कुमार सिंह, चंचल कुमार सिंह तथा पिंटू कुमार उपस्थित थे।

शिविर में फ़िर लहराया JMM का झंडा

इधर, सोमवार को कारवाई पंचायत भवन में आयोजित शिविर में फिर से जेएमएम का झंडा लगा दिखा। पूरे मामले का संज्ञान लेते हुए प्रशासनिक अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों के हस्तक्षेप के बाद जेएमएम के झंडे को हटाया गया। इससे पूर्व भी रुद और धांगरटोला पंचायत भवन में भी आयोजित शिविर में जेएमएम का झंडा लगाया गया था। इस प्रकरण को लेकर पूरे प्रखंड क्षेत्र में चर्चा तेज़ हो गयी है कि यह राजनीतिक कार्यक्रम है या प्रशासनिक?