Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

माओवादियों का सहयोगी बातकर ग्रामीण की पिटाई, एसपी ने कहा-जांच के बाद होगी कार्रवाई

Garu Latehar News

गोपी कुमार सिंह/लातेहार

लातेहार : जिले के गारू थाना प्रभारी रंजीत कुमार यादव ने ग्रामीण अनिल कुमार सिंह (42) को नक्सलियों का मददगार बताकर उसकी पिटाई कर दी। इस मारपीट में अनिल सिंह के शरीर के पिछले हिस्से में गहरे निशान पड़ गए हैं। घटना बुधवार आधी रात की है। अनिल का इलाज सदर अस्पताल में चल रहा है। वह गारू थाना क्षेत्र के कुकु गांव का रहने वाला है।

डंडे से की पिटाई

घायल अनिल सिंह ने बताया कि बुधवार रात करीब एक बजे गारू थाना प्रभारी उसके घर आए और दरवाजा खुलवाकर थाने चलने को कहा। थाने पहुंचकर थाना प्रभारी श्री यादव ने कहा कि आप पार्टी वाले की मदद करते हो। जब उसने कहा कि वह ऐसा कुछ नहीं करता है तो थाना प्रभारी भड़क गए और डंडे से पीटने लगे।

गलती से उठा लायी थी पुलिस

उन्होंने बताया कि उनके शरीर के पिछले हिस्से में करीब तीन से चार सौ डंडे मारे गए हैं। जिससे कई निशान बन गए हैं। अनिल ने कहा कि थाना प्रभारी ने पिटाई के बाद कहा कि आपको गलती से थाने लाया गया। थाना प्रभारी ने इलाज का खर्चा भी देने को कहा था।

क्या कहते हैं थाना प्रभारी

थाना प्रभारी श्री यादव से पूछे जाने पर उन्होने कहा कि ऐसी कोई बात नहीं है। पूछताछ के लिए उसे थाना में लाया गया था और पूछताछ के बाद उसे छोड़ दिया गया था।

पुलिस अधीक्षक ने जांच कराने की कही बात

इस संबंध में पूछे जाने पर पुलिस अधीक्षक अंजनी अंजन ने कहा कि अगर ऐसा कुछ है तो इसकी जांच कर दोषी पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

पूर्व विधायक ने की निंदा

वहीं लातेहार विधानसभा के पूर्व विधायक प्रकाश राम ने घटना पर चिंता जताते हुए कहा कि पुलिस की कार्रवाई निंदनीय है।

इधर, झारखंड जनाधिकार महासभा ने मांग किया है कि थाना प्रभारी के विरुद्ध तुरंत कार्रवाई हो और अनिल सिंह को पर्याप्त मुआवज़ा मिले। महासभा ने अपनी मांगों को पुनः दुहराया है जिसमें (1) नक्सलियों को पकड़ने की आड़ में सुरक्षा बल लोगों को प्रताड़ित न करे और (2) पाँचवी अनुसूची क्षेत्र के किसी भी गांव में सर्च औपरेशन चलाने से पहले ग्राम सभा और पारम्परिक प्रधानों की अनुमति ली जाए।

Garu Latehar News


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *