Breaking :
||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल||पलामू: पिछले 13 माह में सड़क दुर्घटना में 225 लोगों की मौत पर उपायुक्त ने जतायी चिंता||सदन की कार्यवाही सोमवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित||JSSC परीक्षा में गड़बड़ी मामले की CBI जांच कराने की मांग को लेकर विधानसभा गेट पर भाजपा विधायकों का प्रदर्शन||लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर||युवक ने थाने की हाजत में लगायी फां*सी, परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार में 23 फ़रवरी को लगेगा रोजगार मेला, विभिन्न पदों पर होगी बंम्पर भर्ती||अब सात मार्च तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन||पलामू में 16 वर्षीय किशोर का मिला शव, हत्या की आशंका, सड़क जाम
Saturday, February 24, 2024
गारूलातेहार

लातेहार: 8 महीने से अंधेरे में जीवन यापन करने को विवश हैं दर्जनों परिवार, विभाग के प्रति आक्रोश

गोपी कुमार सिंह/गारू

लातेहार : ज़िले के गारू प्रखंड अंतर्गत रुद पंचायत के महुआडाबार गांव में पिछले 8 माह से बिजली सेवा बाधित है। जिससे गांव में रहने वाले दर्जनों घरों के ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इधर, संबंधित विभाग ग्रामीणों की इस समस्या को लेकर कोई गंभीरता नहीं दिखा रहा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस संबंध में ग्रामीणों ने बताया कि पंचायत चुनाव के कुछ दिनों बाद से गांव में लगा बिजली ट्रांसफार्मर खराब है। लेकिन इसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। दशहरा पर्व के अवसर पर भी बिजली नहीं मिलने से ग्रामीणों में विभाग के खिलाफ काफी आक्रोश है।

ग्रामीणों ने आगे बताया कि इस समस्या से ग्रामीणों ने कई बार बिजली कर्मियों को अवगत करा दिया है। इसके बावजूद विभागीय कर्मचारी इस समस्या के समाधान के लिए कोई पहल नहीं कर रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि पहले भी कई बार फाल्ट आ चुका है। जिसे बाद में इलेक्ट्रीशियन द्वारा ठीक किया जाता है। लेकिन कुछ दिन ठीक होने के बाद फिर से खराबी आ जाती है। जिससे ग्रामीण अंधेरे में जीने को मजबूर हैं।

गांव में बिजली नहीं होने से पेयजल, खेतों में पटवान, बच्चों की पढ़ाई समेत कई अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

राज्य सरकार सड़क, राशन, पेंशन, रोजगार, शुद्ध पेयजल, बिजली समेत अन्य योजनाओं से गांव के अंतिम पायदान पर बैठे लोगों को लाभान्वित करने का दावा करती है। लेकिन इन सभी योजनाओं का धरातल पर कोई खास असर होता नहीं दिख रहा है। इसका ताजा उदाहरण रुद पंचायत का महुआडाबार गांव है। जहां गांव के ग्रामीण पिछले 8 महीने से बिजली नहीं होने के कारण ढिबरी युग में जीने को मजबूर हैं। ग्रामीणों ने संबंधित विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से गांव में खराब ट्रांसफार्मर को ठीक कर विद्युत सेवा बहाल करने की मांग की है।