Breaking :
||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत||जेठानी ने देवरानी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- कल्पना सोरेन के इशारे पर मेरी दोनों बेटियों को मारने की थी कोशिश||गढ़वा: JJMP जोनल कमांडर के नाम पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी को धमकी||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में फिर मारे गये सात नक्सली
Saturday, May 25, 2024
गारूलातेहार

लातेहार: 8 महीने से अंधेरे में जीवन यापन करने को विवश हैं दर्जनों परिवार, विभाग के प्रति आक्रोश

गोपी कुमार सिंह/गारू

लातेहार : ज़िले के गारू प्रखंड अंतर्गत रुद पंचायत के महुआडाबार गांव में पिछले 8 माह से बिजली सेवा बाधित है। जिससे गांव में रहने वाले दर्जनों घरों के ग्रामीणों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इधर, संबंधित विभाग ग्रामीणों की इस समस्या को लेकर कोई गंभीरता नहीं दिखा रहा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस संबंध में ग्रामीणों ने बताया कि पंचायत चुनाव के कुछ दिनों बाद से गांव में लगा बिजली ट्रांसफार्मर खराब है। लेकिन इसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। दशहरा पर्व के अवसर पर भी बिजली नहीं मिलने से ग्रामीणों में विभाग के खिलाफ काफी आक्रोश है।

ग्रामीणों ने आगे बताया कि इस समस्या से ग्रामीणों ने कई बार बिजली कर्मियों को अवगत करा दिया है। इसके बावजूद विभागीय कर्मचारी इस समस्या के समाधान के लिए कोई पहल नहीं कर रहे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि पहले भी कई बार फाल्ट आ चुका है। जिसे बाद में इलेक्ट्रीशियन द्वारा ठीक किया जाता है। लेकिन कुछ दिन ठीक होने के बाद फिर से खराबी आ जाती है। जिससे ग्रामीण अंधेरे में जीने को मजबूर हैं।

गांव में बिजली नहीं होने से पेयजल, खेतों में पटवान, बच्चों की पढ़ाई समेत कई अन्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

राज्य सरकार सड़क, राशन, पेंशन, रोजगार, शुद्ध पेयजल, बिजली समेत अन्य योजनाओं से गांव के अंतिम पायदान पर बैठे लोगों को लाभान्वित करने का दावा करती है। लेकिन इन सभी योजनाओं का धरातल पर कोई खास असर होता नहीं दिख रहा है। इसका ताजा उदाहरण रुद पंचायत का महुआडाबार गांव है। जहां गांव के ग्रामीण पिछले 8 महीने से बिजली नहीं होने के कारण ढिबरी युग में जीने को मजबूर हैं। ग्रामीणों ने संबंधित विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों से गांव में खराब ट्रांसफार्मर को ठीक कर विद्युत सेवा बहाल करने की मांग की है।