Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Sunday, April 21, 2024
बरवाडीहलातेहार

रामनवमी से पहले बरवाडीह व सरईडीह बाजार में जर्जर बिजली तार बदलने की मांग

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : बरवाडीह प्रखंड मुख्यालय के बाजार से बस स्टैंड के बीच और सरईडीह संपूर्ण बाजार में विद्युत आपूर्ति को लेकर जर्जर तार लगातार दुर्घटनाओं का आमंत्रण दे रही है। प्रखंड मुख्यालय के बाजार से बस स्टैंड के बीच कई बार जर्जर तार टूट कर गिर चुके है।

वही एक सप्ताह पूर्व सरईडीह बाजार में जर्जर तार गिरने के कारण 1 पशु की मौत होने के साथ-साथ कई लोग भी तार की चपेट में आने से बाल-बाल बचे थे।

जिसको लेकर प्रखण्ड की महिला समाजसेवी औऱ अपना अधिकार अपना सम्मान मंच की सचिव सन्तोषी शेखर ने पत्र और अन्य माध्यमों से राज्य के मुख्यमंत्री और उपायुक्त से जर्जर तार को रामनवमी के पूर्व बदलने की मांग की है। ताकि भविष्य में कोई दुर्घटना ना हो।

साथ ही बिजली के तार को प्लास्टिक कवर वाली तार लगाने की भी मांग की गई है। ताकि वह पूरी तरह से सुरक्षित हो सके।

सन्तोषी शेखर ने कहा प्रखंड मुख्यालय का बाजार से बस स्टैंड और सरईडीह बाज़ार पूरा भीड़भाड़ वाला इलाका है और इस बीच वर्षों से विद्युत विभाग के जर्जर तार का टूट जाना बड़ी दुर्घटना को आमंत्रण देने के साथ विभाग की लापरवाही को दिखाता है। इसके लिए उपायुक्त को संज्ञान लेना चाहिए और कोई बड़ी दुर्घटना ना हो इसके पहले विभाग को सचेत करना चाहिए। इसी उद्देश्य ध्यान आकर्षित कराने का प्रयास किया जा रहा है।