Breaking :
||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर

लातेहार: लोक आस्था का महापर्व छठ नहाय-खाय के साथ शुरू

लातेहार : लोक आस्था का महापर्व छठ नहाय-खाय के साथ शुरू हो गया है। इस दिन से घर में शुद्धता का बहुत ध्यान रखा जाता है। छठ व्रत को कठिन तपस्या के रूप में माना जाता है। छठ व्रत मूल रूप से केवल महिलाओं द्वारा किया जाता है लेकिन कुछ पुरुष भी इस व्रत का पालन करते हैं। छठ का पहला दिन ‘नहाय-खाय’ के रूप में मनाया जाता है। इस दिन शुद्ध भोजन से व्रत की शुरुआत की जाती है। मान्यता के अनुसार छठी मइया ने कार्तिकेय को दूध पिलाकर उनका पालन-पोषण किया था, इसी से छठ पर दूध से अर्घ्य देने की परंपरा शुरू हुई।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस दिन सूर्योदय से पहले उठकर महिलाएं आम की लकड़ी से दातुन करती हैं। इसके बाद नहाने के बाद लौकी की सब्जी के साथ चने की दाल और चावल खाते हैं। इसमें संतान देने वाली छठी मइया और आरोग्य के दाता भगवान सूर्य की पूजा की जाती है। व्रती खाने-पीने के साथ सात्विक जीवन जीते हैं, और खुद को सभी प्रकार की नकारात्मक भावनाओं से दूर रखते हैं।

सूर्य को प्रत्यक्ष देवता माना गया है। इसमें संतान देने वाली छठी मइया और आरोग्य देने वाले भगवान सूर्य की पूजा की जाती है। ऐसे में लोग नदी में स्नान कर अच्छे स्वास्थ्य की कामना करते हैं।

नहाय-खाय से पहले दिन की शुरुआत

छठ पूजा की शुरुआत नहाय खाय से होती है। इस दिन व्रत रखने वाले लोग नदी में स्नान करते हैं, जिसके बाद केवल एक ही समय का भोजन किया जाता है।

दूसरा दिन – खरना

छठ्ठी मइया की पूजा के दूसरे दिन को ‘खरना’ कहा जाता है। इस दिन विशेष भोग बनाया जाता है। इसके लिए शाम के समय मीठे चावल (चावल) या लौकी की खिचड़ी खाई जाती है। वहीं इस महाव्रत का तीसरा दिन दूसरे दिन के प्रसाद के तुरंत बाद शुरू होता है। आपको बता दें कि इस साल 2022 में खरना 29 अक्टूबर को है।

तीसरा दिन – अर्घ्य

छठ पूजा की हर विधि और नियम का अपना अलग धार्मिक और पौराणिक महत्व है। इस महापूजा के तीसरे दिन की भी अपनी महिमा है। पूजा के तीसरे दिन शाम को भगवान सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा है। इस दौरान सभी व्रती श्रद्धालु अपने बांस की टोकरियों में पूजा सामग्री के साथ फल, ठेकुआ और चावल के लड्डू रखते हैं। इस दौरान पूरे अर्घ्य सूप को भी सजाया जाता है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

जब पूजा पूरी विधि-विधान से की जाती है तो व्रत रखने वाले सभी लोग अपने परिवार के साथ अस्ताचलगामी सूर्य यानि अस्त होते सूर्य देव को अर्घ्य देते हैं। यानी इस दिन डूबते सूर्य की पूजा की जाती है। छठ पूजा का पहला अर्घ्य इस साल 30 अक्टूबर को दिया जाएगा। इस दिन सूर्यास्त का समय 05:34 से शुरू होगा।

चौथा दिन – उगते सूर्य को अर्घ्य

चौथे दिन उगते सूर्य को अर्घ्य दिया जाता है। यह अर्घ्य लगभग 36 घंटे के उपवास के बाद दिया जाता है। 31 अक्टूबर को उगते सूरज को अर्घ्य दिया जाएगा। इस दिन सूर्योदय शाम 6.27 बजे होगा। इस उगते सूरज को अर्घ्य देने के बाद इस महापर्व और छठ मैया का व्रत समाप्त हो जाएगा।