Breaking :
||बंद औद्योगिक इकाइयों को पुनर्जीवित करेगी राज्य सरकार : मुख्यमंत्री||आर्थिक तंगी के कारण कोई भी छात्र उच्च एवं तकनीकी शिक्षा से न रहे वंचित: मुख्यमंत्री||झारखंड में मानसून की आहट, भारी बारिश का अलर्ट जारी||बड़गाईं जमीन घोटाले में ED की बड़ी कार्रवाई, जमीन कारोबारी के ठिकाने से एक करोड़ कैश और गोलियां बरामद||पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के सेक्शन अधिकारी समेत दो रिश्वत लेते गिरफ्तार||सतबरवा में कपड़ा व्यवसायी के बेटे और बेटी के अपहरण का प्रयास विफल, लातेहार की ओर से आये थे अपहरणकर्ता||लातेहार: एनडीपीएस एक्ट के दोषी को 15 वर्ष का कठोर कारावास और 1.5 लाख रुपये का जुर्माना||लातेहार सिविल कोर्ट में आपसी सहमति से प्रेमी युगल ने रचायी शादी||लातेहार: किड्जी प्री स्कूल के बच्चों ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर किया योगाभ्यास||किसानों की समृद्धि से राज्य की अर्थव्यवस्था को मिलेगी मजबूती : मुख्यमंत्री
Saturday, June 22, 2024
लातेहार

लातेहार: महुआ चुनने के लिए लगाई आग की जद में आने से 25 एकड़ में लगी अरहर की फसल जल कर राख

गोपी कुमार सिंह/लातेहार

लातेहार : सदर थाना क्षेत्र के डूमरटांड़ गांव में अचानक आग लगने से 25 एकड़ में लगी अरहड़ की सफल जलकर राख हो गयी है। जानकारी के मुताबिक अरहड़ की सफल जिला मुख्यालय निवासी निशा महलका की थी।

खेत में आग लगने की सूचना मिलते ही निशा महलका और उनके बेटे रितेश महलका मौके पर पहुंचे और आग बुझाने का अथक प्रयास किया। लेकिन आग पर काबू पाने से पहले अरहर की फसल पूरी तरह जलकर राख हो गई।

इस संबंध में निशा महलका के बेटे रितेश महलका ने बताया कि इस आगजनी की घटना में करीब 5 लाख रुपये का नुकसान हुआ है। उन्होंने बताया कि अरहद की फसल 25 एकड़ जमीन में लगाई गई थी। जो पूरी तरह जल कर राख हो गया है।

उन्होंने बताया कि इस संबंध में स्थानीय पुलिस को सूचित कर दिया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। फिलहाल आग कैसे लगी इसके कारणों का पता नहीं चल पाया है। स्थानीय लोगों के मुताबिक यह आग महुआ को चुनने के लिए लगाई गई थी। जिसने अरहर को अपनी गिरफ्त में लेकर नष्ट कर दिया है।

ग्रामीणों के मुताबिक आग किसने लगाई यह किसी को पता नहीं है। बहरहाल, निशा महलका ने लातेहार जिला प्रशासन से मुआवजे की मांग की है।

यहां जानकारी देते चले कि इन दिनों महुआ चुनने को लेकर सूखे पत्तों को साफ करने के मकसद से जगह जगह आग लगाई जा रही है। जिससे कही ग्रामीणों की खेती तो कही वन विभाग में लगे पेड़ो को नुकसान पहुच रहा है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *