Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

मनमानी : शिक्षा के नाम पर बच्चों के भविष्य के साथ हो रहा खिलवाड़, सप्ताह में दो-तीन दिन खुलता है विद्यालय

रामकुमार/लातेहार

लातेहार : सरयू प्रखंड अंतर्गत गोताग गांव के राजकीय प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक द्वारा मनमानी की जा रही है, दो दर्जन से अधिक छोटे बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। गोताग गांव का सरकारी स्कूल सप्ताह में 2 से 3 दिन मनमाने ढंग से खोला जा रहा है। जिसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है।

महुआ चुन रहे बच्चे

विद्यालय बंद रहने के कारण बच्चे पढ़ाई लिखाई छोड़ दिन भर महुआ चुनते हैं। विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र, प्रवीण उरांव, आनंद उरांव, आशिका कुमारी, अमित उरांव, सुभाष उरांव, अनिता कुमारी, चांदनी कुमारी, पुष्पा कुमारी, बादल उरांव, समेत अन्य छात्रों ने बताया कि प्रधानाध्यापक उमेश दास सप्ताह में 2 से 3 दिन स्कूल आते हैं और अपना अटेंडेंस बनाकर चलें जाते हैं। न तो हम विद्यालय में ठीक से पढ़ते हैं और न ही हमें खाना मिलता है।

कार्रवाई की मांग

बच्चों ने बताया कि विद्यालय में शिक्षक के नहीं आने से उनकी पढ़ाई पूरी तरह से प्रभावित है। कहा कि उचित शिक्षा नहीं मिलने से उनका भविष्य खराब हो रहा है। छात्रों ने गोताग गांव के राजकीय प्राथमिक विद्यालय में सही शिक्षा प्रदान करने के लिए डीसी व जिला शिक्षा अधीक्षक से मदद की गुहार लगाते हुए मनमानी करने वाले शिक्षक पर करवाई करने की मांग की है।

सरकार का सपना अधूरा

एक तरफ विद्यालय चलो अभियान के तहत प्राथमिक विद्यालय में शत-प्रतिशत नामांकन कराने की बात कही जा रही है। ताकि छोटे बच्चे खासकर आदिवासी किसान एवं गरीब परिवार के बच्चे शिक्षा से वंचित न रहे, लेकिन यहां तो शिक्षा के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति किया जा रहा है। ग्रामीणों की माने तो यहां पर विद्यालय आने का शिक्षक के लिए कोई रूल नहीं होता है। यहां विद्यालय अध्यापक अपनी मर्जी से आते हैं और अपनी मर्जी से चले जाते हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

8000 से कम कीमत में मिल रहा है ये दमदार बैटरी बैकअप वाला फ़ोन