Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

प्रबंधन से नाराज विस्थापितों ने विभिन्न मांगों को लेकर कोलियरी के कार्यों को कराया ठप

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : रविवार को सीसीएल की मगध संघमित्रा एरिया द्वारा संचालित आरा चमातू कोलियरी से विस्थापित हुए ग्रामीणों ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर कोलियरी के सारे कार्यों को ठप करा दिया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस दौरान ग्रामीणों ने प्रखंड प्रमुख ममता देवी के नेतृत्व में कोलियरी के सभी कांटा घरों के साथ-साथ कार्यालय और रेडी कंपनी के कार्यालय के सभी कार्यों को बंद कराया गया। इस दौरान पंचायत के मुखिया प्रमेश्वर उरांव विस्थापित नेता ईश्वर साहू, हरी साहू, रवि प्रकाश, राकेश सिंह, कल्लू खान समेत कई लोगों ने सक्रिय भूमिका निभाई।

ग्रामीणों का आरोप था कि सीसीएल के कोलियरी खुले कई वर्ष हो गए लेकिन यहां के लोगों को मूलभूत सुविधाएं भी प्रदान नहीं की गई है। जिस कारण लोगों का जीना मुश्किल हो गया है। जिस तरह से सीसीएल प्रबंधन ने क्षेत्र के लोगों से वादा किया था। उसका अनुपालन उनके द्वारा नहीं किया जा रहा है। यहां के लोग बेरोजगार घूम रहे हैं वही प्रबंधन द्वारा अभी तक नौकरी और मुआवजा सही ढंग से लोगों को नहीं दिया गया है। स्थानीय लोग बेरोजगारी का आलम झेल रहे हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मौके पर कई ग्रामीणों ने कहा कि क्षेत्र के ग्रामीण अपनी जायज मांगों को लेकर सीसीएल प्रबंधन से कई बार मुलाकात कर समस्या समाधान का मांग किया। लेकिन उनके द्वारा समाधान नहीं किया गया। ज्यादा दबाव देने पर उनके द्वारा ग्रामीणों को झूठे मुकदमे में फसा दिया गया।

ग्रामीणों का आरोप है कि सीसीएल प्रबंधन स्थानीय बिचौलियों की मिलीभगत से अवैध कोयला तस्करी के साथ-साथ अपनी मनमानी पर अड़ी हुई है। जिस कारण ग्रामीणों की समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है। अगर यही स्थिति रही तो आने वाले दिनों में कोलियरी को काफी दिनों तक बंद कराने के लिए ग्रामीण बाध्य हो जाएंगे। वही संवाद प्रेषण तक ग्रामीणों से वार्ता के लिए कोई भी सीसीएल अधिकारी और प्रशासनिक पदाधिकारी नहीं पहुंचे हैं। जिस कारण कोलियरी से कोयले का परिवहन उत्पादन के साथ-साथ अन्य कार्य बंद हो गए है।