Breaking :
||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत||जेठानी ने देवरानी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- कल्पना सोरेन के इशारे पर मेरी दोनों बेटियों को मारने की थी कोशिश||गढ़वा: JJMP जोनल कमांडर के नाम पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी को धमकी||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में फिर मारे गये सात नक्सली
Saturday, May 25, 2024
बालूमाथलातेहार

बालूमाथ: 9 सूत्री मांगों को लेकर हड़ताल पर गयीं आंगनबाड़ी सेविकायें लौटी वापस

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : झारखंड प्रदेश आंगनवाडी वर्क्स यूनियन के तत्वधान में बालूमाथ बाल विकास परियोजना अंतर्गत पड़ने वाले बालूमाथ, बारियातू तथा हेरंज प्रखंड क्षेत्र के सैकड़ों आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका अपनी 9 सूत्री मांगों को लेकर 5 जुलाई से हड़ताल पर चली गई थी। जो आज 18 जुलाई से वापस लौट गई हैं।

इस संबंध में आंगनबाड़ी सेविकाओं ने इसकी लिखित सूचना मुख्यमंत्री के नाम बालूमाथ स्थित परियोजना कार्यालय के प्रधान सहायक को ज्ञापन सौंपा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उल्लेखनीय है कि ज्ञापन के माध्यम से 11 माह से लंबित मानदेय तत्काल भुगतान करने के साथ-साथ आंगनबाड़ी सेविका सहायिका की नियमावली बनाने, समान काम समान वेतन लागू करने, वर्तमान झारखंड सरकार द्वारा चुनावी घोषणा पत्र में आंगनबाड़ी सेविका को 10000 और सहायिका को ₹8000 देने, सेवानिवृत्त होने पर आर्थिक लाभ एकमुश्त ₹500000 तथा पेंशन लागू करने, लघु आंगनबाड़ी सेविकाओं को आंगनबाड़ी सेविका के बराबर मानदेय देने आदि प्रमुख मांगे हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मौके पर आगनबाडी वर्क्स यूनियन के संगीता देवी, लक्ष्मी देवी, अंजनी देवी, नंदिनी देवी, सुनीता देवी, बबीता देवी, डोली कुमारी समेत काफी संख्या में आंगनबाड़ी सेविका और सहायिका मौजूद थीं।