Breaking :
||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को||टेंडर कमीशन देने में पांकी के ठेकेदार का भी नाम : शशिभूषण मेहता||टेंडर घोटाले की जांच में पूर्व मंत्री आलमगीर आलम नहीं कर रहे सहयोग : ED||पांचवें चरण में 63.21 फीसदी वोटिंग, पुरुषों से ज्यादा रही महिलाओं की भागीदारी||गढ़वा: शादी समारोह में शामिल होने जा रही मां-बेटी की सड़क हादसे में मौत, बेटा और बेटी की हालत नाजुक||झारखंड: स्कूलों में शत प्रतिशत नामांकन को लेकर राज्य शिक्षा परियोजना गंभीर, लापरवाही बरतने पर होगी कार्रवाई||टेंडर कमीशन घोटाला मामला: ED ने अब IAS मनीष रंजन को पूछताछ के लिए बुलाया||मतदान केंद्र में फोटो या वीडियो लेना अपराध, की जा रही है कार्रवाई : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी||लातेहार: बालूमाथ में बाइक दुर्घटना में एक युवक की मौत, दूसरा गंभीर, रिम्स रेफर||गढवा: डोभा में नहाने के दौरान डूबने से JJM नेता के पोते समेत दो किशोरों की मौत
Thursday, May 23, 2024
गारूलातेहार

गारू: ग्राम सभा में कोयल नदी के समीप उद्धव सिंचाई योजनान्तर्गत सोलर प्लांट लगाने पर बनी सहमति

गोपी कुमार सिंह/गारू

ग्राम सभा में जिप सदस्य समेत कई लोग रहे मौजूद

लातेहार : ज़िले के गारू प्रखंड मुख्यालय के धांगरटोला पंचायत अंतर्गत लुहुरटांड़ गांव में ग्राम सभा का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता ग्राम प्रधान रामलाल उरांव ने की। बैठक में सर्वसम्मति से कोयल नदी के समीप उद्धव सिंचाई योजना के तहत सोलर प्लांट लगाने के लिए सहमति बनी।

बता दें कि इस सोलर प्लांट के लगने से गांव के सैकड़ों ग्रामीणों को पानी पटवन के लिए काफी सहूलियत होगी।मौके पर जिप सदस्य जीरा देवी, लघु सिंचाई विभाग के कनीय अभियंता उपेंद्र चौधरी, मुखिया प्रभा देवी, उपमुखिया सकलदीप उरांव, जिप सदस्य पति बिनोद उरांव, बबलू कुमार समेत दर्जनों की संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जानकारी देते चले कि संविधान के अनुसार ग्राम सभा के पास वे शक्तियां होती हैं, जिससे ऐसे कार्यों के संपादन का दायित्व होगा जो राज्य की विधायिका द्वारा, विधिसम्मत तरीके से उसे प्रदान किए जाएंगे। उदाहरण के लिए ग्राम स्तर पर पंचायत द्वारा क्रियान्वित किए जाने से पहले सामाजिक-आर्थिक विकास की योजनाओं, कार्यक्रमों और परियोजनाओं को उनके द्वारा स्वीकृति दी जाती है।

गरीबी उन्मूलन तथा अन्य कार्यक्रमों के तहत लाभार्थी के रूप में व्यक्तियों के चयन या चिह्नित करने का दायित्व भी इसके पास होता है। ग्राम स्तर पर हर पंचायत के लिए ग्राम सभा से कोष का उपयोग करने हेतु एक प्रमाणपत्र पाना जरूरी होता है। जिसके द्वारा ऐसी योजनाओं, कार्यक्रमों और परियोजनाओं का पंचायत द्वारा क्रियान्वयन किया जाता है।