Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

गारू: ग्राम सभा में कोयल नदी के समीप उद्धव सिंचाई योजनान्तर्गत सोलर प्लांट लगाने पर बनी सहमति

गोपी कुमार सिंह/गारू

ग्राम सभा में जिप सदस्य समेत कई लोग रहे मौजूद

लातेहार : ज़िले के गारू प्रखंड मुख्यालय के धांगरटोला पंचायत अंतर्गत लुहुरटांड़ गांव में ग्राम सभा का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता ग्राम प्रधान रामलाल उरांव ने की। बैठक में सर्वसम्मति से कोयल नदी के समीप उद्धव सिंचाई योजना के तहत सोलर प्लांट लगाने के लिए सहमति बनी।

बता दें कि इस सोलर प्लांट के लगने से गांव के सैकड़ों ग्रामीणों को पानी पटवन के लिए काफी सहूलियत होगी।मौके पर जिप सदस्य जीरा देवी, लघु सिंचाई विभाग के कनीय अभियंता उपेंद्र चौधरी, मुखिया प्रभा देवी, उपमुखिया सकलदीप उरांव, जिप सदस्य पति बिनोद उरांव, बबलू कुमार समेत दर्जनों की संख्या में ग्रामीण मौजूद थे।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जानकारी देते चले कि संविधान के अनुसार ग्राम सभा के पास वे शक्तियां होती हैं, जिससे ऐसे कार्यों के संपादन का दायित्व होगा जो राज्य की विधायिका द्वारा, विधिसम्मत तरीके से उसे प्रदान किए जाएंगे। उदाहरण के लिए ग्राम स्तर पर पंचायत द्वारा क्रियान्वित किए जाने से पहले सामाजिक-आर्थिक विकास की योजनाओं, कार्यक्रमों और परियोजनाओं को उनके द्वारा स्वीकृति दी जाती है।

गरीबी उन्मूलन तथा अन्य कार्यक्रमों के तहत लाभार्थी के रूप में व्यक्तियों के चयन या चिह्नित करने का दायित्व भी इसके पास होता है। ग्राम स्तर पर हर पंचायत के लिए ग्राम सभा से कोष का उपयोग करने हेतु एक प्रमाणपत्र पाना जरूरी होता है। जिसके द्वारा ऐसी योजनाओं, कार्यक्रमों और परियोजनाओं का पंचायत द्वारा क्रियान्वयन किया जाता है।