Breaking :
||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या||पलामू समेत झारखंड के इन चार लोकसभा सीटों के लिए 18 से शुरू होगा नामांकन, प्रत्याशी गर्मी की तपिश में बहा रहे पसीना||रामनवमी के दौरान माहौल बिगाड़ने वाले आपत्तिजनक पोस्ट पर झारखंड पुलिस की पैनी नजर, गाइडलाइन जारी||झारखंड: प्रचार करने पहुंचीं भाजपा प्रत्याशी गीता कोड़ा का विरोध, भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं के बीच झड़प||झारखंड में 20 अप्रैल को जारी होगा मैट्रिक परीक्षा का रिजल्ट||कुर्मी को आदिवासी सूची में शामिल करने की मांग से आदिवासी समाज में आक्रोश, आंदोलन की चेतावनी||लातेहार: सुरक्षा व्यवस्था को लेकर डीसी ने रामनवमी जुलूस निकालने वाले मार्गों का किया निरीक्षण||पलामू: तेज रफ़्तार कार और बाइक की टक्कर में युवक की मौत
Monday, April 15, 2024
बरियातू न्यूज़लातेहार

ग्रामीणों के अथक प्रयास से दो दिन बाद मिला नदी में बहे व्यक्ति का शव, परिवार में मातम

संजय राम/बारियातू

लातेहार : बरियातू प्रखंड की फुलसू पंचायत के मंजुआखांड निवासी नरेश गंझू (40) पिता मंगर गंझू का शव बुधवार सुबह गांव वालों के अथक प्रयास के बाद डूबकोली स्थित श्मशान घाट के पास से बरामद किया गया। शव को पोस्टमार्टम के लिए लातेहार भेज दिया गया है।

आपको बता दें कि नरेश गंझू सोमवार 19 सितंबर को जिउतिया पर्व पर आयोजित जतरा मेला देखने हेरहंज के बोंगादाग गए थे। घर लौटने के क्रम में वह डूबकुलवा नदी पार कर रहा था, इसी बीच अचानक बाढ़ आ गई, जिससे वह नदी में बह गया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

नरेश गंझू के शव को खोजने के लिए ग्रामीण सोमवार से लगातार प्रयास कर रहे थे। जिसका शव बुधवार सुबह डूबकुलवा नदी के श्मशान घाट के पास से बरामद किया गया। बरियातू टीओपी प्रभारी कुंदन कुमार व हेरहंज थाना प्रभारी मुकेश चौधरी सदल बल ग्रामीणों का सहयोग करते रहे।

शव मिलते ही नरेश की पत्नी राजमणि देवी, पुत्री अस्मिता कुमारी, पुत्र वीरेंद्र कुमार, महेंद्र कुमार, पुत्री रीता कुमारी सहित परिवार के अन्य सदस्यों में मातम छा गया। रोने से पूरे परिवार का हाल बेहाल है। नरेश घर में कमाने वाला एकमात्र सदस्य था जो अपने परिवार का भरण पोषण करता था।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

इधर, नरेश के शव की खबर मिलते ही जिला परिषद सदस्य रमेश राम ने मृतक परिवार से मुलाकात कर सरकारी प्रावधान के तहत हर संभव मदद दिलाने की बात कही। आसपास के आक्रोशित ग्रामीण कह रहे थे कि अगर सांसद, विधायक और अधिकारी पुल का निर्माण करवा देते तो ऐसी घटना नहीं होती। वही गुस्साए ग्रामीणों ने एक स्वर में पुल निर्माण की मांग की है।

मौके पर फुलसु पंचायत के पूर्व मुखिया अर्जुन उरांव, उप प्रमुख निशा शाहदेव, कांग्रेस युवा नेता सह समाजसेवी लाल अशीषनाथ शाहदेव सहित काफी संख्या में लोग मौजूद थे।