Breaking :
||लातेहार में PLFI के दो उग्रवादी हथियार के साथ गिरफ्तार, ठेकेदारों को फोन पर देते थे धमकी||पलामू: JJMP के सब जोनल कमांडर ने किया सरेंडर, खोले कई चौंकाने वाले राज||लातेहार: अनियंत्रित बोलेरो ने खड़े ट्रक में मारी टक्कर, दो युवकों की मौत, चार की हालत नाजुक||हेमंत सरकार का निर्णय, सरकारी कार्यक्रमों में ‘जोहार’ शब्द से अभिवादन करना अनिवार्य||सरकार खतियान आधारित स्थानीयता बिल फिर राज्यपाल को भेजेगी : JMM||राज्य स्तरीय झांकी में पलामू किला को मिला पहला स्थान, राज्यपाल ने किया पुरस्कृत||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा

ग्रामीणों के अथक प्रयास से दो दिन बाद मिला नदी में बहे व्यक्ति का शव, परिवार में मातम

संजय राम/बारियातू

लातेहार : बरियातू प्रखंड की फुलसू पंचायत के मंजुआखांड निवासी नरेश गंझू (40) पिता मंगर गंझू का शव बुधवार सुबह गांव वालों के अथक प्रयास के बाद डूबकोली स्थित श्मशान घाट के पास से बरामद किया गया। शव को पोस्टमार्टम के लिए लातेहार भेज दिया गया है।

आपको बता दें कि नरेश गंझू सोमवार 19 सितंबर को जिउतिया पर्व पर आयोजित जतरा मेला देखने हेरहंज के बोंगादाग गए थे। घर लौटने के क्रम में वह डूबकुलवा नदी पार कर रहा था, इसी बीच अचानक बाढ़ आ गई, जिससे वह नदी में बह गया।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

नरेश गंझू के शव को खोजने के लिए ग्रामीण सोमवार से लगातार प्रयास कर रहे थे। जिसका शव बुधवार सुबह डूबकुलवा नदी के श्मशान घाट के पास से बरामद किया गया। बरियातू टीओपी प्रभारी कुंदन कुमार व हेरहंज थाना प्रभारी मुकेश चौधरी सदल बल ग्रामीणों का सहयोग करते रहे।

शव मिलते ही नरेश की पत्नी राजमणि देवी, पुत्री अस्मिता कुमारी, पुत्र वीरेंद्र कुमार, महेंद्र कुमार, पुत्री रीता कुमारी सहित परिवार के अन्य सदस्यों में मातम छा गया। रोने से पूरे परिवार का हाल बेहाल है। नरेश घर में कमाने वाला एकमात्र सदस्य था जो अपने परिवार का भरण पोषण करता था।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

इधर, नरेश के शव की खबर मिलते ही जिला परिषद सदस्य रमेश राम ने मृतक परिवार से मुलाकात कर सरकारी प्रावधान के तहत हर संभव मदद दिलाने की बात कही। आसपास के आक्रोशित ग्रामीण कह रहे थे कि अगर सांसद, विधायक और अधिकारी पुल का निर्माण करवा देते तो ऐसी घटना नहीं होती। वही गुस्साए ग्रामीणों ने एक स्वर में पुल निर्माण की मांग की है।

मौके पर फुलसु पंचायत के पूर्व मुखिया अर्जुन उरांव, उप प्रमुख निशा शाहदेव, कांग्रेस युवा नेता सह समाजसेवी लाल अशीषनाथ शाहदेव सहित काफी संख्या में लोग मौजूद थे।