Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

हेरहंज में कुरकुरे खाने से 3 साल का बच्चा फिर बना फूड प्वाइजनिंग का शिकार

शशि भूषण गुप्ता

लातेहार : गुरुवार की रात बालूमाथ थाना सीमा क्षेत्र से सटे हेरहंज थाना क्षेत्र के सेरका ग्राम में कुरकुरे खाने से फिर एक 3 वर्षीय बच्चा फूड प्वाइजनिंग का शिकार हो गया है। जिसे गंभीर अवस्था में बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया है।

जहां डॉक्टर अमरनाथ प्रसाद के द्वारा उसका इलाज किया जा रहा है। फूड प्वाइजनिंग का शिकार सेरका ग्राम निवासी गणेश गंझू का पुत्र सोनू कुमार है, जो आज गुरुवार की शाम पास के ही एक दुकान में कुरकुरे खरीद कर खाया था। उसके बाद से अब तक उसे 8 से 10 उल्टियां हो चुकी हैं और रुकने का नाम नहीं ले रही है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इसके बाद परिजनों ने बच्चे को रात करीब 9:00 बजे बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया। जहां उसका इलाज किया जा रहा है। फिलहाल फूड प्वाइजनिंग के शिकार बच्चे की स्थिति खतरे से बाहर बताई जा रही है।

आपको बता दें कि इससे पहले भी बालूमाथ व चंदवा में पैकेट बंद रिंग्स व कुरकुरे खाने से कई बच्चे फूड प्वाइजनिंग का शिकार हो गए थे। जिसमें चंदवा के दो बच्चियों की रिम्स में इलाज के दौरान मौत भी हो गयी थी। जिसके बाद प्रशासन ने रिंग्स व कुरकुरे की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया था। इसके बावजूद ग्रामीणक्षेत्रों में रिंग्स व कुरकुरे धड़ल्ले से बिक रहे हैं।