Breaking :
||भीषण गर्मी की चपेट में झारखंड, सूरज उगल रहा आग, विशेषज्ञों ने बताये बचाव के उपाय||लातेहार: मनिका स्थित कल्याण गुरुकुल में युवती की संदिग्ध मौत, जांच में जुटी पुलिस||रांची के रातू रोड इलाके से गुजर रहे हैं तो हो जायें सावधान! बाइक सवार बदमाशों की है आप पर नजर||गढ़वा में सैकड़ों चमगादड़ों की दर्दनाक मौत, भीषण गर्मी से मौत की आशंका||लातेहार: अमझरिया घाटी की खाई में गिरा ट्रक, चालक और खलासी की मौत||मैक्लुस्कीगंज में ऑप्टिकल फाइबर बिछाने के काम में लगे कंटेनर में नक्सलियों ने लगायी आग, जिंदा जला मजदूर||फल खरीदने गया पति, प्रेमी के साथ भाग गयी पत्नी||पलामू में 47.5 डिग्री पहुंचा पारा, मई महीने का रिकॉर्ड टूटा, दशक का सर्वाधिक अधिकतम तापमान||DJ सैंडी मर्डर केस : हत्या और मारपीट का मामला दर्ज, बार संचालक व बाउंसर समेत 14 गिरफ्तार||झारखंड की चर्चा खूबसूरत पहाड़ों की वजह से नहीं बल्कि नोटों के पहाड़ की वजह से हो रही : मोदी
Thursday, May 30, 2024
झारखंड

TSPC के जोनल कमांडर ने किया खुलासा, बालूमाथ के कोयला कारोबारी के हत्या की थी योजना

TSPC zonal commander

रांची : टीएसपीसी का जोनल कमांडर भीखन गंझू रांची के कोकर के ढेलटोली में उग्रवादियों के लिए बसेरा बना रहा था। इस संबंध में उन्होंने राहुल मुंडा के नाम करीब डेढ़ करोड़ रुपए की वसूली कर 16 कट्टे जमीन खरीदी थी। वहीं रांची निवासी बालूमाथ के एक कोयला कारोबारी के हत्या की भी योजना थी। पुलिस की जांच में इसका खुलासा हो गया है।

राहुल के नाम पर उसने जमीन इसलिए खरीदी थी कि पकड़े जाने के बाद भी जहां पुलिस को उस संपत्ति नजर न जाए, शहरी इलाके में ठिकाना बनाने के पीछे उसका मकसद उग्रवादी घटनाओं को अंजाम देकर अपने साथियों के साथ यहां शरण लेना था। भीखन स्वयं उसी भूमि पर एक छोटा सा घर बनाकर रह रहा था। वहीं से उसे गिरफ्तार भी कर लिया गया।

पुलिस जांच में यह भी साफ हो गया है कि जोनल कमांडर अपने साथियों के साथ रांची निवासी बालूमाथ के एक कोयला कारोबारी की हत्या करने वाला था। हत्या रांची में प्रस्तावित होली मिलन समारोह के दौरान की जानी थी। भीखन ने उससे लेवी की मांग की, लेकिन उसने देने से इनकार कर दिया था। इससे नाराज भीखन ने संगठन की ओर से उग्रवादी रोशन उरांव उर्फ ​​दशरथ उरांव को एके 47 दे दी, लेकिन उससे पहले भीखन को गिरफ्तार कर लिया गया।

झारखंड के अलग-अलग जिलों में भीखन के पास करीब 60 एकड़ जमीन है। वह हर महीने औसतन 20 से 40 लाख रुपये वसूल करता था। ताज मियां, जानकी महतो, श्रवण और बबलू मुंडा इस संग्रह में भीखन की मदद करते थे। चतरा और रांची में भीखन पर हत्या और लेवी वसूली के 26 मामले अलग-अलग थानों में दर्ज हैं।

TSPC zonal commander