Breaking :
||नहीं रहे ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री नव किशोर दास, इलाज के दौरान तोड़ा दम||दुमका में मूर्ति विसर्जन के दौरान जय श्री राम के नारे बजाने को लेकर दो समुदायों के बीच झड़प||मुख्यमंत्री ने लातेहार के कार्यपालक अभियंता पर अभियोजन चलाने की दी स्वीकृति||1932 के खतियान आधारित स्थानीयता वाले विधेयक को राज्यपाल ने लौटाया, कहा- सरकार वैधानिकता की करे समीक्षा||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता ने किया पतरातू गांव का दौरा, घटना की CID जांच की मांग||लातेहार: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो समुदायों में भिड़ंत, गांव पहुंचे विधायक और एसपी, माहौल तनावपूर्ण||ओडिशा के स्वास्थ्य मंत्री पर जानलेवा हमला, कार से उतरते ही ASI ने मारी गोली||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी

TSPC के जोनल कमांडर ने किया खुलासा, बालूमाथ के कोयला कारोबारी के हत्या की थी योजना

TSPC zonal commander

रांची : टीएसपीसी का जोनल कमांडर भीखन गंझू रांची के कोकर के ढेलटोली में उग्रवादियों के लिए बसेरा बना रहा था। इस संबंध में उन्होंने राहुल मुंडा के नाम करीब डेढ़ करोड़ रुपए की वसूली कर 16 कट्टे जमीन खरीदी थी। वहीं रांची निवासी बालूमाथ के एक कोयला कारोबारी के हत्या की भी योजना थी। पुलिस की जांच में इसका खुलासा हो गया है।

राहुल के नाम पर उसने जमीन इसलिए खरीदी थी कि पकड़े जाने के बाद भी जहां पुलिस को उस संपत्ति नजर न जाए, शहरी इलाके में ठिकाना बनाने के पीछे उसका मकसद उग्रवादी घटनाओं को अंजाम देकर अपने साथियों के साथ यहां शरण लेना था। भीखन स्वयं उसी भूमि पर एक छोटा सा घर बनाकर रह रहा था। वहीं से उसे गिरफ्तार भी कर लिया गया।

पुलिस जांच में यह भी साफ हो गया है कि जोनल कमांडर अपने साथियों के साथ रांची निवासी बालूमाथ के एक कोयला कारोबारी की हत्या करने वाला था। हत्या रांची में प्रस्तावित होली मिलन समारोह के दौरान की जानी थी। भीखन ने उससे लेवी की मांग की, लेकिन उसने देने से इनकार कर दिया था। इससे नाराज भीखन ने संगठन की ओर से उग्रवादी रोशन उरांव उर्फ ​​दशरथ उरांव को एके 47 दे दी, लेकिन उससे पहले भीखन को गिरफ्तार कर लिया गया।

झारखंड के अलग-अलग जिलों में भीखन के पास करीब 60 एकड़ जमीन है। वह हर महीने औसतन 20 से 40 लाख रुपये वसूल करता था। ताज मियां, जानकी महतो, श्रवण और बबलू मुंडा इस संग्रह में भीखन की मदद करते थे। चतरा और रांची में भीखन पर हत्या और लेवी वसूली के 26 मामले अलग-अलग थानों में दर्ज हैं।

TSPC zonal commander