Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता ने फांसी लगाकर की आत्महत्या, मायके वालों ने लगाया हत्या का आरोप||लातेहार: मनिका में सड़क निर्माण स्थल पर उग्रवादियों का हमला, JCB मशीन में लगायी आग||वेतन नहीं मिलने से नहीं हुआ बेहतर इलाज, गढ़वा में DRDA कर्मी की मौत||लातेहार: हेरहंज में पेड़ से गिरकर युवक की मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल||लातेहार: सड़क दुर्घटना में घायल महिला की इलाज के दौरान मौत, मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम||लातेहार: महुआडांड में आदिवासी महिला से दुष्कर्म के बाद बनाया वीडियो, वायरल करने व जान से मारने की धमकी||लातेहार: चंदवा पुलिस ने अभिजीत पावर प्लांट से लोहा चोरी कर ले जा रहे पिकअप को पकड़ा, एक गिरफ्तार||लातेहार: महुआडांड़ में बस और बाइक की जोरदार टक्कर में दो युवकों की मौत, एक गंभीर, देखें तस्वीरें||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान

यह परिवार केवल पैसे के लिए बनाता है पार्टी और करता है राजनीति, चोरी भी और सीनाजोरी भी – बाबूलाल मरांडी

रांची : झारखंड में कोयला, बालू, पत्थर और अन्य खनिज सामग्री की लूट लगातार हो रही है। शिकायत करने पर कोई कार्रवाई नहीं होती बल्कि शिकायतकर्ता को झूठे मुकदमे में फंसाया जाता है। सरकार चोरी भी करती है और ऊपर से सीना जोरी भी करती है। ये बातें भाजपा विधायक दल के नेता और झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने आज रांची जिले के कांके प्रखंड में भाजपा द्वारा आयोजित झारखंड बचाओ आक्रोश सभा हेमंत हटाओ को संबोधित करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि झारखंड में खनिज सामग्री की लूट हो रही है और केंद्रीय जांच एजेंसी जब इसकी जांच करती है तो पूछताछ के लिए समन भेजती है तो राज्य के मुख्यमंत्री का कहना है कि मुझे आदिवासी होने के कारण केंद्र सरकार द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने सवाल किया कि क्या प्रदेश की जनता ने हेमंत सोरेन को सूबे को लूटने का लाइसेंस दिया है। अगर आप अपराध और भ्रष्टाचार करते हैं तो जांच एजेंसी आपका पीछा करेगी। झारखंड में गरीबों को राशन की कालाबाजारी हो रही है और सरकार खामोश है।

मरांडी ने कहा कि झारखंड में पिछले कई महीनों से गरीबों को राशन नहीं दिया जा रहा है। केंद्र सरकार द्वारा गरीबों के लिए भेजा जाने वाला राशन सरकार के संरक्षण में कालाबाजारी किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की लापरवाही देखिए कि बिचौलिए उनके विधानसभा क्षेत्र के गरीबों के अनाज की कालाबाजारी कर रहे हैं, शिकायत के बावजूद राज्य के मुखिया कुछ नहीं कर पा रहे हैं, क्योंकि सिर्फ जनता सत्ता पक्ष के लोग उस कालाबाजारी में शामिल हैं।

मरांडी ने कहा कि झामुमो, कांग्रेस और राजद तीनों राजनीतिक दल पारिवारिक दल हैं, भ्रष्टाचार उनके डीएनए में है। यह परिवार केवल पैसे के लिए राजनीति करता है, जो परिवार पैसे के लिए पार्टी बनाता है, हालांकि झारखंड में राजनीतिक दलों को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है, उन्हें तुरंत झारखंड की राजनीति से बाहर का रास्ता दिखाना होगा।

ग्रामीण इलाकों में राज्य सरकार के खिलाफ विरोध की लहर

श्री ने कहा कि प्रदेश के सभी प्रखंडों में भाजपा द्वारा सरकार के खिलाफ जो रोष दिखाया जा रहा है और जिस तरह से सभी प्रखंडों में लोगों की भागीदारी देखी जा रही है, उससे साफ पता चलता है कि हेमंत सरकार के खिलाफ ग्रामीणों में विरोध की लहर है। ज्वालामुखी की तरह फूट रहा है। लोग हैरान और परेशान हैं। आलम ये है कि आज किसी भी सरकारी दफ्तर में बिना पैसे के कोई काम नहीं हो रहा है। चाहे जन्म प्रमाण पत्र बनाने की बात हो या मृत्यु प्रमाण पत्र बनाने की। चाहे जमीन की रसीद लेनी हो या म्युटेशन कराना हो, बिना भेंट के कोई भी काम नहीं होता है।

अब यह भी देखने में आ रहा है कि लोगों की खतनी जमीन भी गलत तरीके से बेची जा रही है और लोगों की शिकायतों को सुनने वाला कोई नहीं है। इसलिए अब बीजेपी ने तय कर लिया है कि अब भ्रष्ट हेमंत सरकार को एक पल के लिए भी सत्ता में नहीं बैठने देंगे। जब तक हेमंत सोरेन की सरकार राज्य में रहेगी, खनिज संपदा की लूट होती रहेगी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उन्होंने लोगों को आश्वस्त करते हुए कहा कि जिस दिन से प्रदेश में भाजपा की सरकार बनेगी, उस दिन से प्रखंड के अधिकारी आपके घर आकर आपकी जरूरत का प्रमाण पत्र बनाएंगे. लोगों को ब्लॉक के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे।

बीजेपी ने बनाया अलग झारखंड राज्य

श्री मरांडी ने अलग झारखंड राज्य के निर्माण को भाजपा की देन बताया। उन्होंने कहा कि झामुमो का कहना है कि हमने लड़कर झारखंड को अलग राज्य बनाया है। लेकिन सच तो यह है कि झारखंड आंदोलन को बेचने का काम इन्हीं लोगों ने किया है। लेकिन केंद्र में भाजपा की सरकार बनते ही अटल बिहारी बाजपेयी जी ने झारखंड के लोगों के सपने को पूरा करने का फैसला किया और उसी दिन 15 नवंबर 2000 को धरती आबा बिरसा मुंडा जी की जयंती के दिन एक अलग राज्य बनाने की घोषणा की।

मेरी सरकार ने खतियान के आधार पर नियुक्तियों में प्राथमिकता का प्रावधान किया

जब मेरे नेतृत्व में झारखंड में भाजपा की सरकार बनी तो मैंने खतियान के आधार पर नियुक्तियों में प्राथमिकता देने का प्रावधान किया, लेकिन मामला हवा में चला गया और नीति को ही खारिज कर दिया गया। आज हेमंत सोरेन भी 1932 की बात कर रहे हैं, लेकिन किन कारणों से कोर्ट ने मेरे समय की स्थानीय नीति को खारिज कर दिया, उन बिंदुओं को हल किए बिना इसे लागू करना संभव नहीं है। दरअसल, राज्य सरकार 1932 को लागू नहीं करना चाहती है, यह सिर्फ लोगों की भावनाओं से खेल रही है।

पिछले तीन साल से प्रदेश में विकास कार्य ठप

मरांडी ने राज्य सरकार पर हो रहे विकास कार्यों पर सवाल उठाते हुए कहा कि आज 2019 से प्रदेश में हेमंत सोरेन की सरकार है लेकिन इन तीन वर्षों से विकास कार्य ठप है। केंद्र सरकार से राज्य को मिलने वाली सभी कल्याणकारी योजनाओं में राज्य सरकार लापरवाह है।

धरना प्रदर्शन में शामिल लोगों से आह्वान करते हुए मरांडी ने कहा कि हेमंत सोरेन को हटाना है और झारखंड को बचाना है। इसलिए आप सभी यहां से यह संकल्प लें और अपने घरों को जाएं।